सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

Uksssc study material (download pdf file)

उत्तराखंड अध्ययन सामग्री 

देवभूमि उत्तराखंड के सभी नोट्स और मॉक टेस्ट की पीडीएफ़ प्राप्त करने के लिए संपर्क करें। - 9568166280

उत्तराखंड आबकारी परीक्षा 2024 


देवभूमि उत्तराखंड द्वारा उत्तराखंड आबकारी परीक्षा 2024 हेतु विशेष टेस्ट सीरीज उपलब्ध करायी जा रही है जिसमें 10 प्रैक्टिस सेट दिए गए हैं। सभी टेस्ट नये पैटर्न पर आधारित है। मुख्यतः तार्किक और विचारशील प्रश्नों का समावेशन करके हमारी टीम द्वारा तैयार किए गए हैं जो आबकारी सहित अन्य सभी परीक्षाओं के लिए उपयोगी है।



Buy Now - just pay ₹39

UKPSC RO/ARO Mock Test 2023 (E-Book)

इस पुस्तक द्वारा उत्तराखंड लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित Ukpsc RO/ARO 2023 की परीक्षा के लिए 150 प्रश्नों के 20 मॉक टेस्ट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। सभी टेस्ट वर्तमान करेंट अफेयर्स के साथ अपटेडठ टेस्ट होंगे। इसलिए इसमें आपको Demo के रूप में Ukpsc RO/ARO Mock test -01 की Pdf file उपलब्ध करायी गयी है। 


Download Uttrakhand current affairs 2023

इस पुस्तक में अप्रैल 2023 से सितंबर 2023 तक के महत्वपूर्ण उत्तराखंड के सभी करेंट अफेयर्स तथा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय करेंट अफेयर्स तैयार किए गए हैं।

ध्यान दें - 
ई-बुक डाउनलोड करने से पहले आपको दिए गए नंबर पर 9568166280 पर भेजने होंगे। उसके बाद ही ई-बुक खुलेगी।



Download uksssc mock test in pdf 

देवभूमि उत्तराखंड एक विश्वसनीय पोर्टल है जो एक लम्बे समय से उत्तराखंड की सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए फ्री नोट्स और फ्री टेस्ट उपलब्ध करा रहा है। किन्तु आर्थिक समस्या के चलते प्रथम बार आगामी uksssc vdo की परीक्षा के लिए विशेष टेस्ट सीरीज लाया है। जिसमें आपको 20 टेस्ट E-book के रूप में उपलब्ध कराए जाएंगे। E-book का मूल्य ₹50 है जिसे आप Google Pay, Phone pay, Ya Paytm द्वारा 9568166280 पर भेज सकते हैं। 

Uksssc Mock test 2023 (part -2)

देवभूमि उत्तराखंड द्वारा समूह ग की परीक्षाओं के लिए विशेष टेस्ट सीरीज प्रारंभ की गयी है । जिसका मुख्य फोकस vdo की परीक्षा पर किया गया है। आगामी vdo की परीक्षा हेतु भाग -01 में 20 मॉक टेस्ट उपलब्ध कराए गए हैं। तथा भाग -02 में 10 मॉक टेस्ट उपलब्ध कराए गए हैं। जिन्हें आप नीचे दिए गए लिंक से डाऊनलोड कर सकते हैं। किंतु पीडीएफ फाइल तभी खुलेंगी जब आप नीचे दिए गये मूल्यों को Google pay या phone pay द्वारा पे करोगे।

Uksssc Mock test series (part -02)

 just ₹20 (total test -10)


Download pdf file - click here 

Uksssc Mock test 2023 

(part -01) - download pdf file 

Total mock test -20 (just pay -₹50)


Buy now - Just pay - ₹49 

देवभूमि उत्तराखंड द्वारा सभी टेस्ट पिछले 10 वर्षों के समूह ग द्वारा आयोजित सभी परीक्षाओं का गहन अध्ययन करने के बाद प्रत्येक टेस्ट में 25-30 प्रश्नों को शामिल किया गया है। इसके अलावा उत्तराखंड का राजनीतिक इतिहास (अजय रावत), उत्तराखंड का नवीन इतिहास (डॉ. यशवंत सिंह कठौच), परीक्षा वाणी (केसरी नंदन त्रिपाठी), उत्तराखंड का राजनीतिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक इतिहास (घनश्याम जोशी), यूकेकिपीडिया (भगवान सिंह धामी), उत्तराखंड सिंगल लाइनर नोट्स (बी.एस. नेगी), उत्तराखंड में जन जागरण और आंदोलन का इतिहास (डॉ. योगेश धस्माना), भारतीय अर्थशास्त्र (रमेश सिंह), भारतीय संविधान (लक्ष्मीकांत) इतिहास एवं भूगोल की कक्षा 6 से 12 तक की सभी एनसीआरटी पुस्तकें आदि सभी पुस्तकों का गहन अध्ययन करने के पश्चात तैयार किए गए हैं। साथ ही प्रत्येक मॉक टेस्ट में 10 से 12 करंट अफेयर के क्वेश्चन के साथ अपडेटेड मॉक टेस्ट तैयार किए गए हैं। जो आपकी तैयारी को बेहतर बना सकते हैं।

Current affairs 2023 - download pdf file - 

Just pay - ₹10 

पीडीएफ डाउनलोड होने के बाद तभी खुलेगी जब आप दिए गए नंबर 9568166280 पर Google pay या phone pay करते हैं।


Download pdf file

Just pay - ₹10 

Uksssc current affairs 2021-22

देवभूमि उत्तराखंड द्वारा 2021-22 के सभी करेंट अफेयर्स के महत्वपूर्ण तथ्यों और योजनाओं का संकलन किया गया है। जिसे आप मात्र ₹10 में प्राप्त कर सकते हैं। 



उत्तराखंड का इतिहास (भाग -01) 

E-book launch (ई-बुक पुस्तक लांच)

देवभूमि उत्तराखंड के ऑनलाइन पोर्टल पर उपलब्ध सभी उत्तराखंड के इतिहास के आर्टिकल्स को संयोजित कर एक पुस्तक तैयार की गई है। जिसमें उत्तराखंड के प्राचीन इतिहास से लेकर उत्तराखंड के आधुनिक इतिहास के सभी वंशों और तथ्यों का वर्णन विस्तार पूर्वक किया गया है। यह देवभूमि का प्रथम संस्करण होगा जिसमें कुछ अध्याय अधूरे हो सकते हैं किंतु आगामी परीक्षाओं के लिए यथाशीघ्र उत्तराखंड के इतिहास के अलावा उत्तराखंड का भूगोल उत्तराखंड की प्रश्नोत्तरी एवं उत्तराखंड की समस्त सिलेबस के लिए पुस्तके उपलब्ध कराई जाएंगी। और यदि आपको यह ई-बुक उसके पसंद आती हैं तो अतिशीघ्र इन्हें प्रकाशित कराया जाएगा।

Download uttrakhand history notes



Download pdf file - click here 

(उत्तराखंड का सम्पूर्ण इतिहास पुस्तक) 

Buy now ₹99

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा तैयार किए गए सभी मॉक टेस्ट पसंद आएंगे। यदि आपको हमारे द्वारा तैयार किए गए मॉक टेस्ट पसंद आते हैं तो आप हमें अतिरिक्त राशि प्रदान कर सकते हैं क्योंकि ऐसे अभ्यर्थी जिनके पास पुस्तकें खरीदने के लिए पैसे नहीं है या कोचिंग जाने के लिए वित्तीय सहायता की आवश्यकता है उन्हें देवभूमि उत्तराखंड मुफ्त टेस्ट उपलब्ध कराता है। 

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें - 

9568166280

इसे भी पढ़ें :-

उत्तराखंड प्रतियोगी परीक्षा अध्ययन रणनीति

Join telegram channel - click here

Join WhatsApp group


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

कत्यूरी राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

 कत्यूरी राजवंश का इतिहास भाग -1 अमोघभूति कुणिद वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। कुणिद वंश उत्तराखंड में लगभग तीसरी- चौथी शताब्दी की पहली राजनीतिक शक्ति थी । जबकि कत्यूर राजवंश उत्तराखंड में शासन करने वाला पहला ऐतिहासिक शक्तिशाली राजवंश था। इसे कार्तिकेयपुर वंश के नाम से भी जाना जाता है। 'कत्यूरी' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग एटकिंसन ने किया था।  कत्यूरी राजवंश के संस्थापक बसंत देव थे । जिन्हें बासुदेव के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी। पांडुकेश्वर ताम्रलेख में पाए गए कत्यूरी राजा ललितशूर के अनुसार कत्यूरी शासकों की प्राचीनतम राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी । बाद में नरसिंह देव ने जोशीमठ से बैजनाथ (बागेश्वर ) में राजधानी स्थानांतरित कर दी । जहां से कत्यूरी राजवंश को विशिष्ट पहचान मिली । कत्यूरी राजवंश का उदय कुणिंदों के पतन के पश्चात देवभूमि उत्तराखंड की भूमि पर कुछ नए राजवंशों का उदय हुआ। जैसे गोविषाण, कालसी लाखामंडल आदि जबकि कुछ स्थानों पर कुणिंद भी शासन करते रहे। कुणिंदो के बाद शक, कुषाण और यौधेय  वंश के शासकों ने कुछ क्षेत्रों पर शासन व्यवस्था स्थ

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

गोरखा शासन : उत्तराखंड का इतिहास

    उत्तराखंड का इतिहास           गोरखा शासन (भाग -1) पृष्ठभूमि मल्ल महाजनपद का इतिहास (आधुनिक नेपाल) 600 ईसा पूर्व जब 16 महाजनपदों का उदय हुआ। उन्हीं में से एक महाजनपद था - मल्ल (आधुनिक नेपाल का क्षेत्र)। प्राचीन समय में नेपाल भारत का ही हिस्सा था। मल्ल महाजनपद का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ के " अगुंत्तर निकाय " में किया गया है। और जैन ग्रंथ के भगवती सूत्र में इसका नाम " मौलि या मालि " नाम से जनपद का उल्लेख है। मल्ल महाजनपद की प्रथम राजधानी कुशीनगर थी । कुशीनगर में गौतम बुद्ध के निर्वाण (मृत्यु) प्राप्त करने के बाद उनकी अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लो को मिला था । जिसके संस्मारणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। मल्ल की वित्तीय राजधानी पावा थी । पावा में ही महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था ।                 322 ईसा पूर्व समस्त उत्तर भारत में मौर्य साम्राज्य ने अपना शासन स्थापित कर लिया था। मल्ल महाजनपद भी मौर्यों के अधीन आ गया था। गुप्त वंश के बाद उत्तर भारत की केंद्र शक्ति कमजोर हो गई । जिसके बाद  लगभग 5वीं सदीं में वैशाली से आए 'लिच्