सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मई, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

पौरव वंश का इतिहास (उत्तराखंड का इतिहास)

 उत्तराखंड का इतिहास पौरव राजवंश अल्मोड़ा जनपद के तालेश्वर नामक (वर्तमान पिथौरागढ़) स्थान से तांबे एवं अष्टधातु के अभिलेख प्राप्त हुए हैं। जिसमें यह उल्लेख मिलता है कि छठी शताब्दी में ब्रह्मपुर में पौरवों का शासन था। इस वंश के प्रमुख शासकों में विष्णुवर्मन प्रथम, वृषवर्मन, अग्निवर्मन, धुतिवर्मन तथा विष्णुवर्मन द्वितीय का नाम आता है। इसके अतिरिक्त मार्कंडेय पुराण में भी पौरवों का उल्लेख मिलता है। तालेश्वर ताम्रपत्रों में कत्यूरियों की राजधानी कार्तिकेयपुर का उल्लेख एक ग्राम के रूप में हुआ है। पौरव वंश की पृष्ठभूमि  उम्मीद है आपने उत्तराखंड के इतिहास की अध्ययन सीरीज में कुणिंद वंश का इतिहास विस्तार पूर्वक पढ़ लिया होगा। जैसा कि आप जानते हैं कि उत्तराखंड में शासन करने वाली पहली राजनीतिक शक्ति कुणिंद थी जिसका सबसे शक्तिशाली शासक  अमोघभूति था। अमोघभूति की मृत्यु के पश्चात कुणिंद शासकों का विघटन प्रारंभ हो गया। जहां एक तरफ कुणिंद शासकों का साम्राज्य सिकुड़ता जा रहा था। वहीं दूसरी तरफ बाहरी शक्तियों का आक्रमण बढ़ता जा रहा था। उत्तरवर्ती कुणिंदो के समकालीन कुणिंदों के आधे भाग पर शकों ने अधिकार

Most important current affairs in Hindi 2022

       करेंट अफेयर्स 2022 May current affairs देवभूमि उत्तराखंड द्वारा most important affairs हिंदी में तैयार किए जाते हैं। जिनकी भविष्य में होने वाली आगामी परीक्षाओं ukpcs, uppcs , uksssc , upsssc , ssc chsl, CGL में शत-प्रतिशत आने की संभावना होती है। यहां से आप यहां प्रत्येक सप्ताह के माह करेंट अफेयर पढ़ सकते हैं। आज की प्रश्नोत्तरी में मई माह के करंट अफेयर दिए गए हैं। जिनका विस्तृत वर्णन भी किया गया है। Most important current affairs in Hindi  (1) भारतीय बैडमिंटन संघ का नया अध्यक्ष किन्हें नियुक्त किया गया है ? (a) एस. राजू (b) हिमंत बिस्वा सरमा (c) रेणु सिंह (d) मनोज सोनी व्याख्या :- हिमंत बिस्वा सरमा एक भारतीय राजनीतिज्ञ है । जो वर्तमान समय में असम के मुख्यमंत्री हैं इसके अलावा हाल ही में उन्हें बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मौजूदा 2022 से 2026 तक निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया है । बैडमिंटन संघ की स्थापना 1934 में हुई थी व इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है Answer - (b) (2) राष्ट्रीय डॉल्फिन दिवस कब मनाया जाता है (a) 1 अक्टूबर (b) 5 अक्टूबर (c) 5 नवंबर (d) 1 दिसंबर व्याख्या :- पर्यावरण

थारू संस्कृति , थारू परंपराऐं, थारू रीति रिवाज

          थारू संस्कृति क्या आप जानते हैं शादी से पहले भुईयां अर्थात भूमिसेन देवता की पूजा क्यों की जाती है ?  क्या आप जानते हैं भुईयां (भूमिसेन देवता) को गांव से ही बाहर क्यों स्थापित किया जाता है? क्या आप जानते हैं भुईयां में ही सात ही देवता क्यों पूजे जाते हैं ? थारू जनजाति और उनकी परंपराऐं आइए दोस्तों इन्ही सब सवालों की आज हम विचार करेंगे जो थारू जनजाति की परंपराओं और रीति-रिवाजों से संबंधित है यूं तो भारत में अनेक जातियों भूमिसेन देवता की पूजा करती हैं । भूमिसेन देवताओं को विभिन्न स्थानों पर भिन्न-भिन्न नामों से जाना जाता है। ऐसे ही एक प्राचीन जनजाति थारू जनजाति जिन्हें प्रकृति का रक्षक भी कहा जाता है । वह भूमिसेन देवता को भुईयां के नाम से सम्बोधित करती है। थारू जनजाति मुख्यत: उत्तराखंड के उधम सिंह नगर जिले में निवास करती है। इसके अलावा बिहार उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में भी निवास करती है लेकिन यहां चर्चा उत्तराखंड की थारू जनजाति की जा रही है जो महाराणा प्रताप को अपना वंशज मानती है। यदि आपने उधम सिंह नगर के खटीमा और सितारगंज क्षेत्र में भ्रमण किया है। आपने पाया होगा कि वहां के गां