सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

रूद्रप्रयाग का इतिहास : उत्तराखंड

       रूद्रप्रयाग जनपद

          उत्तराखंड का इतिहास

पृष्ठभूमि

क्या आप जानते हैं ? नारद मुनि का जन्म कैसे हुआ और जो नारद जी वीणा पकड़कर नारायण-नारायण करते रहते हैं उस वीणा की उत्पत्ति कैसे हुई ? नारद जी का संबंध रूद्रप्रयाग से कैसे है? आइए जानते हैं इन्हीं सब प्रश्नों के बारे में और विस्तार पूर्वक रुद्रप्रयाग का इतिहास , भौगोलिक दशा एवं उसकी प्रशासनिक व्यवस्था का अध्ययन करेंगे।

अभी आप सोच रहे होंगे कि हमें तो रुद्रप्रयाग का इतिहास पढ़ना है तो यहां नारद जी के बारे में जिक्र किया जा रहा है। दरअसल नारद जी का संबंध जुड़ा है - देवभूमि उत्तराखंड से। पुराणों में 182 अध्यायों में उत्तराखंड और नारद जी का वर्णन मिलता है।

रूद्रप्रयाग का इतिहास


अक्सर पौराणिक टीवी सीरियल में नारद मुनि का नाम आप सभी ने सुना होगा। हर साल जेष्ठ महीने की कृष्ण पक्ष द्वितीया को नारद जयंती मनाई जाती है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार नारद को ब्रह्मा के मानस पुत्रों में से एक माना गया है। अर्थात नारद मुनि का जन्म सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा जी की गोद (जांघ) से हुआ है। पौराणिक युग में नारद जी पत्रकारिता का कार्य करते थे। केदारखण्ड में वर्णित कथा के अनुसार नारद मुनि ने रुद्रप्रयाग में एक टांग पर खड़े होकर कड़ी तपस्या की थी जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने नारदजी को "रुद्र" रूप में दर्शन दिए और उनकी तपस्या से खुश होकर उन्हें वीणा दी। जिस स्थान पर भगवान शिव ने रूद्र रूप में दर्शन दिए थे। इस स्थान पर एक रुद्रनाथ मंदिर बनाया गया।  बाद में इसी स्थान को "रुद्रप्रयाग" के नाम से जाना जाता है। पुराणों में रुद्रप्रयाग को 'पुनाड़' कहा गया है। जबकि महाभारत काल में रुद्रप्रयाग को "रूद्रावर्त" कहा जाता था। रुद्रप्रयाग अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों के संगम पर बसा पंच प्रयागों में से एक प्रयाग है। 

                     ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार परमार शासकों से पहले नागवंश के शासक इस क्षेत्र में राज्य करते थे । बाद में छठी शताब्दी के बाद परमार शासकों ने अपना शासन स्थापित किया। 1804 में यह क्षेत्र गोरखा व 1815 में अंग्रेजों के अधीन रहा। अंग्रेजों के सहयोग से सुदर्शन शाह ने गढ़वाल को गोरखा सैनिकों से आजाद करवाया बदले में अंग्रेजों को गढ़वाल का कुछ क्षेत्र देना पड़ा । 4 मार्च 1820 में सुदर्शन शाह एवं ब्रिटिश सरकार के मध्य एक संधि हुई। जिसके अनुसार ब्रिटिश सरकार टिहरी गढ़वाल पर राजा सुदर्शन व उनके वंशजों का अधिकार स्वीकार किया। रूद्रप्रयाग का अधिकांश क्षेत्र टिहरी गढ़वाल के अधीन था। आजादी के बाद टिहरी, पौड़ी, व चमोली जिलों को काटकर रुद्रप्रयाग जनपद का 16 सितंबर 1997 में गठन किया गया‌। रुद्रप्रयाग में नगर पंचायत 2002 और नगरपालिका 2006 में स्थापित की गई। उत्तराखंड के चार धामों में एक धाम - केदारनाथ धाम यहीं स्थित है। यहां 200 से अधिक शिव मंदिर हैं।

रूद्रप्रयाग के प्रमुख स्थल :-

केदारनाथ धाम

प्रसिद्ध धार्मिक स्थल केदारनाथ रुद्रप्रयाग से 76 किलोमीटर दूर स्थित 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। केदारनाथ मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है। यह समुंद्र तल से 3586 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यहां भगवान शिव की पूजा की जाती है। यह मंदिर कत्यूरी शैली में बना हुआ है। यूं तो रुद्रप्रयाग को भगवान 'शिव की भूमि' कहा जाता है। आप सभी जानते हैं भगवान शिव को रुद्र के नाम से भी जाना जाता है इसलिए भी इसे रुद्रप्रयाग कहा जाता है। स्कंदपुराण केदारखंड के अनुसार महाभारत के समय में पांडवों के युद्ध में विजय होने के पश्चात अपने कौरव भाइयों की हत्या का पश्चाताप करने के लिए पांडव अपना राज्य छोड़कर मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित केदारनाथ धाम आए थे। और माना जाता है इसी स्थान से पांडवों ने स्वर्ग की ओर प्रस्थान किया। इस मंदिर के निकट आदि शंकराचार्य की समाधि है। राहुल सांकृत्यायन ने इस मन्दिर का निर्माण 10 से 12 वीं शताब्दी में बताया है। केदारनाथ में 'ब्रह्म गुफा' व 'भीम गुफा' स्थित है। केदारनाथ मंदिर के ही पास "ध्यान गुफा" भी बनी हुई है जिस गुफा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साधना की थी। केदारनाथ मंदिर से कुछ दूरी पर ही स्थित शरवदी सरोवर है। वर्ष 1948 में गांधीजी की अस्थियां इसी सरोवर में विसर्जित की गई थी। इसलिए इसका नाम 'गांधी सरोवर' पड़ा। इस ताल को सरया ताल व चौरावडी ताल के नाम से भी जाना जाता है। केदारनाथ धाम में कपाट बंद होने के दिन 'भतूज  उत्सव' मनाया जाता है इसे 'अन्नकूट मेला' भी कहा जाता है।

16 जून 2013 में केदारनाथ में सबसे बड़ी आपदा का सामना पड़ा। 'चोराबाड़ी ग्लेशियर' का कुछ हिस्सा टूटकर गांधी सरोवर में गिरा जिसके कारण गांधी सरोवर का एक कोना टूट गया और मंदाकिनी नदी में प्रवाह बढ़ गया और नदी ने बाढ़ का रूप ले लिया। जिस कारण रुद्रप्रयाग जनपद में काफी बड़ा नुकसान है। इस आपदा के कारण केदारनाथ मंदिर 86 दिनों तक बंद रहा अर्थात कोई पूजा नहीं नही की जा सकी । केदारनाथ में आपदा राहत के लिए सेना में "ऑपरेशन सूर्याहोप" चलाया। ऑपरेशन केदार के तहत आपदा ग्रस्त केदारघाटी के पुनः निर्माण के लिए एन. आई. एम. (N.I.M.)को 11 सितंबर 2014 को पुनः निर्माण कार्य सौंपा गया। 16-17 जून सी. बी. एस. ई. बोर्ड (CBSE board) ने डिजास्टर इन 'उत्तराखंड रेन आफ टेरर' के नाम से पाठ्यक्रम में शामिल किया। वहीं इससे पहले वर्ष 2001 में रुद्रप्रयाग के ब्योंगाढ़-भडासू नामक स्थान पर भयंकर भूस्खलन आया था। 

विश्वनाथ मंदिर (गुप्त काशी )

उत्तराखंड राज्य में दो जगह विश्वनाथ मंदिर है - उत्तरकाशी व गुप्तकाशी । अर्द्धनारेश्वर मंदिर व बाणासुर गढ़ मंदिर गुप्तकाशी में ही स्थित है। यहां पवित्र मणिकार्णिन कुंड है। ऐसा विश्वास किया जाता है कि मणिकर्णिन कुंड में गंगा एवं यमुना नदियां परस्पर की निकलती हैं। जाख मेला व राकेश्वरी मेला रुद्रप्रयाग के गुप्तकाशी में लगाया जाता है। जाख मेला की मुख्य विशेषता यह है कि जलते अंगारों में नृत्य किया जाता है। राकेश्वरी मेला की मान्यता है कि पूर्णिमा के दिन यहां छय रोग से मुक्ति मिल जाती है।

कोटेश्वर मंदिर

कोटेश्वर महादेव मंदिर रुद्रप्रयाग शहर के पास अलकनंदा नदी के किनारे पर प्रसिद्ध कोटेश्वर गुफा में स्थित है। वास्तव में कोटेश्वर गुफा को ही मंदिर कहा जाता है। इस गुफा में इस स्फटीक शिवलिंग पाए गए हैं।  प्रतिवर्ष कोटेश्वर महादेव मेला का आयोजन किया जाता है। रूद्रप्रयाग में ही गर्म पानी का कुंड गौरीकुंडठंडे पानी का नदीकुंड स्थित है। इसके अतिरिक्त पार्वती कुंड भौरीअमोला, व सरस्वती कुंड (त्रियुगी नारायण मंदिर के पास) रूद्रप्रयाग में स्थित है।


इनके अतिरिक्त रुद्रप्रयाग में  मुण्टकटिया गणेश मंदिर (सोनप्रयाग) , कार्त्तिकस्वामी मंदिर (क्रौंच पर्वत), मां हरियाली देवी मंदिर, त्रियुगी नारायण मंदिर (शिव व पार्वती का विवाह स्थल), शाकम्बरी मंदिर व पंचकेदारों में से तीन प्रयाग केदारनाथ, तुंगनाथ और मदहेमश्वर नाथ स्थित है। व रूद्रनाथ और कल्पेश्वर चमोली में स्थित हैं। इनमें से तुंगनाथ मंदिर रुद्रप्रयाग जिले में तुंगनाथ पर्वत(चंद्रनाथ पर्वत) पर स्थित उत्तराखंड की सबसे ऊंचाई पर स्थित शिव मंदिर है। इस मंदिर की ऊंचाई समुद्र तल से 3680 मीटर है। मान्यता है कि तुंगनाथ मंदिर 1000 वर्ष पुराना है यह मंदिर चौपता से 3 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। चोपता रूद्रप्रयाग का प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है यहां छोटे-छोटे बुग्याल भी हैं।  रुद्रप्रयाग के ऊखीमठ में केदारनाथ समिति का मुख्यालय एवं रावल पुजारियों का आवास स्थल है।  ऊखीमठ में ओंकारेश्वर शिव मंदिर स्थित है जिसका निर्माण आदि गुरु शंकराचार्य ने कराया। नाला का बौद्ध स्तूप भी रुद्रप्रयाग में स्थित है।

रुद्रप्रयाग की भौगोलिक स्थिति

रुद्रप्रयाग जिला मध्य व वृहत हिमालय क्षेत्र में फैला हुआ।देवभूमि उत्तराखंड का महत्वपूर्ण जनपद है।  ऊंचाई पर स्थित होने के कारण यह सबसे कम उद्योग वाला जिला है। जनपद का कुल क्षेत्रफल 1984 वर्ग किलोमीटर है। क्षेत्रफल की दृष्टि से रुद्रप्रयाग उत्तराखंड का दूसरा छोटा जनपद है। जबकि उत्तराखंड का सबसे छोटा जनपद चंपावत वह सबसे बड़ा उत्तरकाशी है। रुद्रप्रयाग उत्तर में उत्तरकाशी, दक्षिण में पौड़ी, पूरब में चमोली व पश्चिम में टिहरी जनपद से  घिरा हुआ राज्य का आंतरिक जनपद है। इस जनपद की सीमा किसी अन्य राज्य व देश से नहीं मिलती है। रुद्रप्रयाग जनपद की प्रमुख नदी मंदाकिनी है।

मंदाकिनी नदी


मंदाकिनी नदी रुद्रप्रयाग जनपद के मंदराचल श्रेणी के चोराबाड़ी ग्लेशियर से निकलती है। जिस की सहायक नदी मधु गंगा है । मधु गंगा और मंदाकिनी नदी दोनों नदी कालीमठ नामक स्थान पर मिल जाती है। मंदाकिनी की अन्य सहायक नदी लस्तर, रावण गंगा और सोन नदी है। लस्तर नदी सूर्य प्रयाग में मंदाकिनी नदी से मिल जाती है। और सोन नदी (बासुकि) का सोनप्रयाग में। केदारनाथ धाम मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है। तुलसीदास ने मंदाकिनी नदी को रामचरितमानस में "सुरसुरि" के नाम से संबोधित किया है। मंदाकिनी और घूलगाड नदी के संगम पर स्थित रुद्रप्रयाग का प्रमुख पर्यटक स्थल अगस्तमुनि है।

रूद्रप्रयाग की प्रमुख झीलें/ग्लेशियर

  • गांधी सरोवर
  • देवरिया ताल ,
  • बधाणी ताल, 
  • वासुकी ताल (टिहरी व रूद्रप्रयाग की सीमा पर) , भेंकलताल(अण्डाकर झील ) , 
  • सूखदी ताल, 

रुद्रप्रयाग जनपद के प्रमुख बुग्याल/पयार - 

  • कसनी खर्क बुग्याल रुद्रप्रयाग में मध्यमहेश्वर मंदिर के पास हैं। 
  • बर्मी बुग्याल रुद्रप्रयाग के रुद्रनाथ के निकट है ।
  • चोपता बुग्याल व मनणी बुग्याल,  रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। 
  • अली बुग्याल जो चमोली रुद्रप्रयाग जिले के बीच में स्थित है।

रुद्रप्रयाग जनपद की प्रशासनिक व्यवस्था

रुद्रप्रयाग जिले की कुल जनसंख्या 2,42,285 है। यह उत्तराखंड का सबसे कम जनसंख्या वाला जिला है। इस जनपद जनसंख्या घनत्व 122  है । तथा लिंगानुपात 1114 है। रुद्रप्रयाग जिले की पुरुष साक्षरता दर 93.90% है। यह जनपद पुरुष साक्षरता की दृष्टि से प्रथम स्थान पर है । यहां की 4.10% आबादी नगरीय है । प्रतिशतकी दृष्टि से रुद्रप्रयाग में दूसरा सबसे सबसे अधिक ग्रामीण आबादी वाला जिला है।
  • रुद्रप्रयाग विधानसभा सीट  - 02 (केदारनाथ, रुद्रप्रयाग)
  • विकासखड.                    -. 03 (ऊखीमठ, जखोली, रूद्रप्रयाग)
  • तहसील.                         -  04 (ऊखीमठ, जखोली, वसूकेदार , रूद्रप्रयाग)
  • नगरपालिका.                   -. 01 ( रूद्रप्रयाग)
अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
  • रुद्रप्रयाग जिले का पांडव नृत्य व बगडवाल नृत्य प्रसिद्ध है
  • कालीमठ घाटी रुद्रप्रयाग में स्थित है।
  • दुगलबिट्टा रुद्रप्रयाग के उखीमठ का पर्यटक स्थल है।
  • मक्कूमाठ रुद्रप्रयाग में कत्यूरी शैली का बना हुआ मठ है। इसका संबंध मार्कंडेय ऋषि से है।
  • सिंगोली-भटवाडी परियोजना मंदाकिनी नदी पर बनी है।

Related posts -:

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

कत्यूरी राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

 कत्यूरी राजवंश का इतिहास भाग -1 अमोघभूति कुणिद वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। कुणिद वंश उत्तराखंड में लगभग तीसरी- चौथी शताब्दी की पहली राजनीतिक शक्ति थी । जबकि कत्यूर राजवंश उत्तराखंड में शासन करने वाला पहला ऐतिहासिक शक्तिशाली राजवंश था। इसे कार्तिकेयपुर वंश के नाम से भी जाना जाता है। 'कत्यूरी' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग एटकिंसन ने किया था।  कत्यूरी राजवंश के संस्थापक बसंत देव थे । जिन्हें बासुदेव के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी। पांडुकेश्वर ताम्रलेख में पाए गए कत्यूरी राजा ललितशूर के अनुसार कत्यूरी शासकों की प्राचीनतम राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी । बाद में नरसिंह देव ने जोशीमठ से बैजनाथ (बागेश्वर ) में राजधानी स्थानांतरित कर दी । जहां से कत्यूरी राजवंश को विशिष्ट पहचान मिली । कत्यूरी राजवंश का उदय कुणिंदों के पतन के पश्चात देवभूमि उत्तराखंड की भूमि पर कुछ नए राजवंशों का उदय हुआ। जैसे गोविषाण, कालसी लाखामंडल आदि जबकि कुछ स्थानों पर कुणिंद भी शासन करते रहे। कुणिंदो के बाद शक, कुषाण और यौधेय  वंश के शासकों ने कुछ क्षेत्रों पर शासन व्यवस्था स्थ

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

गोरखा शासन : उत्तराखंड का इतिहास

    उत्तराखंड का इतिहास           गोरखा शासन (भाग -1) पृष्ठभूमि मल्ल महाजनपद का इतिहास (आधुनिक नेपाल) 600 ईसा पूर्व जब 16 महाजनपदों का उदय हुआ। उन्हीं में से एक महाजनपद था - मल्ल (आधुनिक नेपाल का क्षेत्र)। प्राचीन समय में नेपाल भारत का ही हिस्सा था। मल्ल महाजनपद का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ के " अगुंत्तर निकाय " में किया गया है। और जैन ग्रंथ के भगवती सूत्र में इसका नाम " मौलि या मालि " नाम से जनपद का उल्लेख है। मल्ल महाजनपद की प्रथम राजधानी कुशीनगर थी । कुशीनगर में गौतम बुद्ध के निर्वाण (मृत्यु) प्राप्त करने के बाद उनकी अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लो को मिला था । जिसके संस्मारणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। मल्ल की वित्तीय राजधानी पावा थी । पावा में ही महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था ।                 322 ईसा पूर्व समस्त उत्तर भारत में मौर्य साम्राज्य ने अपना शासन स्थापित कर लिया था। मल्ल महाजनपद भी मौर्यों के अधीन आ गया था। गुप्त वंश के बाद उत्तर भारत की केंद्र शक्ति कमजोर हो गई । जिसके बाद  लगभग 5वीं सदीं में वैशाली से आए 'लिच्