सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

ऊधम सिंह नगर का इतिहास (1995)

    उत्तराखंड का इतिहास

      ऊधम सिंह नगर का इतिहास

पृष्ठभूमि


उम्मीद है आपने अभी तक उत्तराखंड के सभी 12 जनपदों और कुछ प्रमुख शहरों के बारे में अध्ययन कर लिया होगा। उन सब जनपदों में एक खासियत थी कि जिस नाम से वह जनपद थे उसी के नाम से उस जनपद में शहर था। जैसे - रुद्रप्रयाग जनपद अलकनंदा और मंदाकिनी नदी के संगम पर स्थित रुद्रप्रयाग शहर बसा हुआ है। उसी प्रकार अल्मोड़ा, उत्तरकाशी, नैनीताल,  आदि  जनपदों के प्रमुख शहर के नाम पर जनपदों का नाम रखा गया है। 13 जनपदों में एक ऐसा है जो सभी जनपदों से नाम से और विशेषताओं से भिन्न है- ऊधम सिंह नगर 

ऊधम सिंह नगर जनपद

ऊधम सिंह नगर के पीछे नगर जुड़ा है लेकिन यह कोई नगर नहीं है। यह उत्तराखंड के तराई भाबर क्षेत्र में स्थित मैदानी जनपदों में से एक है। खटीमा, सितारगंज, काशीपुर, बाजपुर, गदरपुर, रूद्रपुर और जसपुर सभी विकास खंडों को मिलाकर 30 सितंबर 1995 में नैनीताल से अलग करके ऊधम सिंह नगर की स्थापना की गई है । ऊधम सिंह नगर जिले  मुख्यालय स्थित रूद्रपुर में स्थित है। उधम सिंह नगर में 9 विधानसभा क्षेत्र हैं। जिसमें बाजपुर अनुसूचित जाति (S.C.) आरक्षित क्षेत्र है और नानकमत्ता अनुसूचित जनजाति(S.T.) आरक्षित क्षेत्र है। इसके अतिरिक्त 8 तहसील और एक उप तहसील है। 
(1) काशीपुर, (2) किच्छा (3) खटीमा (4) बाजपुर (5) जसपुर (6) गदरपुर (7) रुद्रपुर (8) सितारगंज (9) उप-तहसील नानकमत्ता

ऊधम सिंह नगर का नामकरण


ऊधम सिंह नगर का नाम जनरल डायर को गोली मारने वाले के ऊधम सिंह के नाम पर रखा गया है । ऊधम सिंह का जन्म 26 दिसंबर 1899 को पंजाब में संगरूर जिले के सुनाम गांव में हुआ था । बचपन में ही माता पिता की मृत्यु के बाद उन्हें अनाथालय में शरण लेनी पड़ी। 13 अप्रैल 1919 में घटित जलियांवाला बाग में ऊधम सिंह भी उस सभा में मौजूद थे। जिसमें जनरल डायर के आदेश पर सैनिकों ने सभा स्थल में जलियांवाला बाग में निहत्थे, मासूम व निर्दोष लोगों पर अंधाधुंध गोलीबारी कर दी। जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए ।
21 साल बाद 13 मार्च 1940 को ऊधम सिंह ने लंदन के सभागार में जनरल डायर को गोली मारकर जलियांवाला बाग हत्याकांड का बदला लिया । उसके बाद उन्हें पकड़ लिया गया और इंग्लैंड में फांसी दे दी गई। शहीद ऊधम सिंह को उस तरह याद नहीं किया जाता था जिस प्रकार अन्य क्रांतिकारियों को याद किया जाता था । अतः उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के सत्ता में आने के बाद मुख्यमंत्री मायावती ने तराई भाबर के सभी नगरों को मिलाकर उधम सिंह के नाम से उधम सिंह नगर की स्थापना की। 

ऊधम सिंह नगर का इतिहास

प्राचीन समय में उधम सिंह नगर को 'मागद' अर्थात रोगियों की भूमि कहा जाता था। चंदो के शासनकाल में उधम सिंह नगर क्षेत्र को चौरासी माल (तराई क्षेत्र) का क्षेत्र कहा जाता था। ब्रिटिश शासन काल में तराई क्षेत्र के भू-भाग को 'क्राउन लैंड' वर्ष 1995 से पहले उधम सिंह नगर नैनीताल जिले का हिस्सा था । उधम सिंह नगर का वास्तविक विकास 1948 से शुरू हुआ। जब विभाजन की समस्या से शरणार्थी समस्या सामने आई । 1948 में अप्रवासियों का पहला बैच आया।

1948 से पहले तराई भाबर का अधिकांश हिस्सा दलदली भूमि, अत्यधिक गर्मी, कई महीनों की वर्षा, जंगली जानवरों, प्रभावित था। कीड़े-मकोड़े और मच्छरों से होने वाले रोगों का खतरा अधिक था। और परिवहन के साधन का भी अभाव था। इसलिए यहां स्थाई निवास बनाना संभव नहीं था। हालांकि ऊधम सिंह नगर में स्थित काशीपुर का इतिहास सदियों पुराना है। जहां आज भी महाभारत काल खुदाई के दौरान युद्ध उपकरण मिलते  हैं । काशीपुर नगर की स्थापना चंद राजाओं के अधिकारी 'काशीनाथ' ने की थी। काशीपुर का पुराना नाम गोविषाण था। काशीपुर को 'उज्जैयनी नगरी' कहा जाता था । चंद काल में काशीपुर को 'कोटा' कहा जाता था। काशीपुर से थोड़ी दूरी पर 'धूमा नदी' के तट पर बाजपुर स्थित है। बाजपुर की स्थापना बाज बहादुर चंद ने की थी। बाजपुर का पुराना नाम मुन्डिया था। 
              सोलवीं सदी में मध्य में गुरु नानक देव जी हिमालय यात्रा के दौरान तराई भाबर के क्षेत्र से गुजरते हुए नानकमत्ता क्षेत्र में विश्राम किया। जहां बाद में गुरु नानक के अनुयायियों ने नानक नगरी के नाम से नानकमत्ता शहर बसाया। नानकमत्ता का प्राचीन नाम 'बख्शी' है। गुरु नानक की यात्रा के कुछ सालों बाद ही 1576 में राणा प्रताप और अकबर की लड़ाई के बाद बड़ी संख्या में थारू जनजाति का विस्थापन तराई भाबर क्षेत्र में हुआ। खटीमा से सितारगंज के बीच 12 गांव का उदय हुआ। सितारगंज में 12 गांव के स्मृति में बारह राणा स्मारक की स्थापना की गई। (थारू जनजाति के सर्वाधिक आबादी खटीमा में रहती है)। खटीमा का प्राचीन नाम मकरपुर है। ऊधम सिंह नगर में सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति निवास करती है। 

              यूं तो तराई भाबर का विकास 16वीं सदी से प्रारंभ हो गया था एक बड़े पैमाने पर यहां खेती होने लगी थी इसलिए 1598 ईस्वी के आसपास हुसैन खां नामक सरदार ने तराई में कब्जा कर लिया था जिसके उपरांत अकबर के समकालीन शासक रूद्रचंद ने तराई पर आक्रमण कर हुसैन खां को हराया और संपूर्ण तराई को अपने नियंत्रण में ले लिया। तराई पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए रूद्रचंद ने रुद्रपुर नगर की स्थापना की। जो आज भी तराई भाबर अर्थात उधम सिंह नगर का मुख्यालय बना हुआ है। रूद्रपुर से कुछ दूरी पर स्थित जसपुर नगर है जिसको बसाने का श्रेय यशोधर जोशी को जाता है। जसपुर का प्राचीन नाम शाहजफर (सहजगीर) था। जसपुर में कीर्ति चंद ने एक किला बनवाया था जिसका नाम कीर्तिनगर रखा गया। 

ऊधम सिंह नगर का विकास


1947 से पहले ऊधम सिंह नगर की जनसंख्या बहुत कम थी। आजादी के बाद भारत का विभाजन हुआ और बड़ी मात्रा में शरणार्थियों को तराई भाबर क्षेत्र में बसाया गया । जिसमें सर्वाधिक आबादी सिख समुदाय की थी।  जो जसपुर और नानकमत्ता-सितारगंज में बसाए गए थे । वर्तमान समय में सर्वाधिक दशकीय वृद्धि वाला जिला उधम सिंह नगर है। 1984 ईस्वी में 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' के कारण सिख चरमपंथियों ने तराई क्षेत्र में शरण ली। वर्ष 1971 में एक बार पुनः बांग्लादेश पाकिस्तान से अलग हुआ और इस बार बंगाली समुदाय का विस्थापन हुआ। सर्वाधिक बंगाली रुद्रपुर, दिनेशपुर और शक्ति फार्म में बसाए गए ।
                वर्तमान समय में ऊधम सिंह नगर की अत्यधिक विकसित हो चुका है।  एल्डिको सिडकुल इंडस्ट्रियल पार्क लिमिटेड सितारगंज ऊधम सिंह नगर का विकास सिडकुल द्वारा किया जा रहा है । राज्य की सर्वाधिक चीनी मिल उधम सिंह नगर जिले में है। औद्योगिक क्षेत्र के रूप में उधम सिंह नगर को एक विशिष्ट पहचान मिली है। जिस कारण पहाड़ों से भारी मात्रा में पलायन हो रहा है। 2011 की जनगणना के अनुसार ऊधम सिंह नगर की कुल जनसंख्या 16.5 लाख है। जनसंख्या की दृष्टि से ऊधम सिंह नगर तीसरा बड़ा जनपद है।  इसका कुल क्षेत्रफल 2542 वर्ग किलोमीटर है। उधम सिंह नगर का जनसंख्या घनत्व 649 वर्ग किलोमीटर है। राज्य में न्यूनतम साक्षरता दर वाला जिला उधम सिंह नगर है जिस की साक्षरता दर 73.10% है जहां महिला साक्षरता दर 64.5% और पुरुष साक्षरता दर 81% है। तराई जिले का गठन 1842 ईसवी में हुआ था जिसके बाद 1864-65 ईस्वी में तराई भाबर को तराई भाबर अधिनियम के तहत रखा गया।

जनपद में ऊर्जा संसाधन

उधम सिंह नगर में उत्तराखंड के विकास के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण जनपद है। इस क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में प्राकृतिक और मानव निर्मित संसाधन उपलब्ध है 1960 से 1970 दशक के दौरान पहाड़ों के पानी को रोकने के लिए 5 डैम (बांध) का निर्माण किया गया।
  1. डोहरा डैम या धोरा डैम - 1960 :- धोरा बांध किच्छा नदी पर बनाया गया है जिसका निर्माण कार्य 1960 में पूरा हुआ इसके अतिरिक्त किच्छा मे ही बौर डैम भी बनाया गया है।
  2. तुमरिया डैम - 1961:- तुमरिया बांध काशीपुर फीका नदी पर बना हुआ है। इसका निर्माण 1961 में शुरू हुआ था और 1970 में पूरा हुआ।
  3. नानक सागर डैम - 1962 :- सरयू नदी की एक धारा जिसे तराई में नंदौर नदी के नाम से जाना जाता है 1962 में नंदौर नदी में नानक सागर डैम का निर्माण कार्य पूरा हुआ।
  4. बेगुल डैम - 1968 :- बेगुल डैम सितारगंज में बेगुल व सुखली नदियों पर बनाया गया है इसका निर्माण कार्य 1968 में पूरा हुआ।
  5. हरिपुरा डैम - 1975 :- हरीपुरा डैम का निर्माण बाजपुर में स्थित गूलरभोज से 5 किलोमीटर की दूरी पर 1975 में बनाया गया। इस जलाशय में भाखड़ा नदी के द्वारा पानी आता है जो कि गंगा नदी की बेसिन( घाटी) से आती है।
इसके अतिरिक्त खटीमा परियोजना ऊधम सिंह नगर में शारदा नदी पर है इसका निर्माण 1955 ईस्वी में हुआ। और शारदा नदी पर ही लोहिया बेड परियोजना का निर्माण हुआ है।

ऊधम सिंह नगर में वन्य जीव विहार


उधम सिंह नगर में वर्ष 2012 को नन्दौर वन्यजीव विहार की स्थापना की गई। नन्दौर वन्यजीव विहार नैनीताल ऊधम सिंह नगर जिले के बॉर्डर पर स्थित है । यह लगभग 270 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसके अलावा वर्ष 2022 में खटीमा के सुरकोंडा नामक स्थान पर क्रोकोडाइल पार्क बनाया गया है। ऊधम सिंह नगर जिला मैदानी भाग में होने से इसकी दशकीय वृद्धि में तेजी से वृद्धि हुई है । जिस कारण इस क्षेत्र का वन क्षेत्र सभी जनपदों से कम है। और प्रतिशत की दृष्टि से भी सबसे कम वन क्षेत्र वाला जनपद उधम सिंह नगर है। वर्तमान समय में उधम सिंह नगर में 564 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर ही वन हैं। ऊधम सिंह नगर जिले की सीमाएं नैनीताल एवं चंपावत से मिलती है।

भारत का पहला कृषि विश्वविद्यालय - पंतनगर 

17 नवंबर 1960 ईस्वी में नेहरू जी ने पंतनगर में देश का पहला कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की थी। पंतनगर विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति 'एंथोनी पार्कर' थे। 1972 में  इसमें गोविंद बल्लभ पंत का नाम जोड़ा गया। उधम सिंह नगर जिले का एकमात्र हवाई अड्डा 'फूलबाग हवाई अड्डा' है जो कि
पंतनगर में स्थित है। इसके अलावा उत्तराखंड का एकमात्र  पहला भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM - Indian institute of management) काशीपुर में स्थित है। इसकी स्थापना 29 अप्रैल 2011 को देश के 13वें आईएम के रूप में हुई।

उधम सिंह नगर जनपद के अन्य महत्वपूर्ण बिंदु

  • किच्छा का पुराना नाम बिलारी या किलपुरी है।
  • ऊधम सिंह नगर राज्य में गन्ना उत्पादन में प्रथम स्थान है। बाजपुर में 1959 ईसवी में पहली सहकारी चीनी मिल खोली गई जो देश की पहली सहकारी मील थी। 
  • गन्ना विकास संस्थान ऊधम सिंह नगर के काशीपुर में स्थित है।
  • सितारगंज में 'हिमालयन फूड पार्क' निर्माणाधीन है। केंद्र सरकार द्वारा 'मिनी स्पाइस पार्क' का निर्माण सितारगंज में किया गया और बाजपुर में इथनॉल प्लांट लगाया गया है।
  • उत्तराखंड ग्रामीण विकास संस्थान रुद्रपुर (ऊधम सिंह नगर) में स्थित है।
  • संपूर्णानंद खुली जेल सितारगंज में स्थित है।
  • उत्तराखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ऊधम सिंह नगर के खटीमा क्षेत्र से विधायक हैं।
  • वाणी प्रवाह, बिगुल व चौराहा समाचार पत्र काशीपुर से निकलते है। इसके अतिरिक्त पर्वत पुत्र समाचार पत्र का प्रकाशन रुद्रपुर में होता है।
  • कुमाऊं के सबसे प्राचीन कवि गुमानी पंत हैं। 1790 इसी में काशीपुर में हुआ था इन्हें लोकरत्न पंथ के नाम से भी जाना जाता है।
ऊधम सिंह नगर के बारे में पूर्ण अध्ययन करने के लिए काशीपुर, रुद्रपुर, खटीमा, सितारगंज, नानकमत्ता आदि सभी शहरों के बारे में विस्तार पूर्वक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें । जहां आप ऊधम सिंह नगर के प्रमुख पर्यटक स्थल प्रमुख मेले और मंदिर के बारे में जानेंगे । साथ ही शहरों के विकास के बारे में।




अतः उधम सिंह नगर से संबंधित सभी प्रश्नों को करने के लिए इन्हें जरूर पढ़ें।






टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

कत्यूरी राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

 कत्यूरी राजवंश का इतिहास भाग -1 अमोघभूति कुणिद वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। कुणिद वंश उत्तराखंड में लगभग तीसरी- चौथी शताब्दी की पहली राजनीतिक शक्ति थी । जबकि कत्यूर राजवंश उत्तराखंड में शासन करने वाला पहला ऐतिहासिक शक्तिशाली राजवंश था। इसे कार्तिकेयपुर वंश के नाम से भी जाना जाता है। 'कत्यूरी' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग एटकिंसन ने किया था।  कत्यूरी राजवंश के संस्थापक बसंत देव थे । जिन्हें बासुदेव के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी। पांडुकेश्वर ताम्रलेख में पाए गए कत्यूरी राजा ललितशूर के अनुसार कत्यूरी शासकों की प्राचीनतम राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी । बाद में नरसिंह देव ने जोशीमठ से बैजनाथ (बागेश्वर ) में राजधानी स्थानांतरित कर दी । जहां से कत्यूरी राजवंश को विशिष्ट पहचान मिली । कत्यूरी राजवंश का उदय कुणिंदों के पतन के पश्चात देवभूमि उत्तराखंड की भूमि पर कुछ नए राजवंशों का उदय हुआ। जैसे गोविषाण, कालसी लाखामंडल आदि जबकि कुछ स्थानों पर कुणिंद भी शासन करते रहे। कुणिंदो के बाद शक, कुषाण और यौधेय  वंश के शासकों ने कुछ क्षेत्रों पर शासन व्यवस्था स्थ

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

गोरखा शासन : उत्तराखंड का इतिहास

    उत्तराखंड का इतिहास           गोरखा शासन (भाग -1) पृष्ठभूमि मल्ल महाजनपद का इतिहास (आधुनिक नेपाल) 600 ईसा पूर्व जब 16 महाजनपदों का उदय हुआ। उन्हीं में से एक महाजनपद था - मल्ल (आधुनिक नेपाल का क्षेत्र)। प्राचीन समय में नेपाल भारत का ही हिस्सा था। मल्ल महाजनपद का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ के " अगुंत्तर निकाय " में किया गया है। और जैन ग्रंथ के भगवती सूत्र में इसका नाम " मौलि या मालि " नाम से जनपद का उल्लेख है। मल्ल महाजनपद की प्रथम राजधानी कुशीनगर थी । कुशीनगर में गौतम बुद्ध के निर्वाण (मृत्यु) प्राप्त करने के बाद उनकी अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लो को मिला था । जिसके संस्मारणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। मल्ल की वित्तीय राजधानी पावा थी । पावा में ही महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था ।                 322 ईसा पूर्व समस्त उत्तर भारत में मौर्य साम्राज्य ने अपना शासन स्थापित कर लिया था। मल्ल महाजनपद भी मौर्यों के अधीन आ गया था। गुप्त वंश के बाद उत्तर भारत की केंद्र शक्ति कमजोर हो गई । जिसके बाद  लगभग 5वीं सदीं में वैशाली से आए 'लिच्