सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

अल्मोड़ा का इतिहास

           अल्मोड़ा

         उत्तराखंड का इतिहास

अल्मोड़ा जनपद व्यापार की दृष्टि से महत्वपूर्ण शहर है साथ ही साथ सामाजिक, राजनैतिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का एक प्रमुख केंद्र रहा है। कुमाऊं मंडल की असली छाप अल्मोड़ा जिले में ही स्थित है। इसका एक विस्तृत इतिहास है। यह पर्यटक स्थलों का मुख्य केंद्र है । रानीखेत, द्वाराहाट, कसार देवी मंदिर,  दूनागिरी मंदिर, जागेश्वर मंदिर,  नंदा देवी मंदिर और चितई गोलू देवता जैसे -प्रसिद्ध मंदिर अल्मोड़ा में ही स्थित है।

अल्मोड़ा का इतिहास

अल्मोड़ा में लम्बे समय तक चंद शासकों ने शासन किया था। इसकी जानकारी चंद शासक 'त्रिमल चंद' और 'बाज बहादुर चंद' के अभिलेखों से मिलता है। मानसखंड में अल्मोड़ा जिले को 'रामशिला' क्षेत्र कहा गया है। अल्मोड़ा का प्राचीन नाम "आलमनगर" है। इसकी भौगोलिक विशेषता घोड़े के खुर के सामान की है। अल्मोड़ा को 'राजाओं की घाटी' भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार अल्मोड़ा में कौशिका देवी ने शुंभ और निशुंभ नामक राक्षसों का वध किया था। जब मानव विकास के पथ पर था। तब छठी शताब्दी ईसा पूर्व में 16 महाजनपदों का उदय हुआ था। एक समय अल्मोड़ा में भी एक कबीला स्थायी बना होगा। समय के साथ उसका आकार बड़ा हुआ। और इस तरह एक जनपद का निर्माण हुआ होगा। माना जाता है कि प्रारंभिक शासक चांद साम्राज्य से थे जो कुुणिद वंश की एक शाखा थी। इतिहासकार डॉ. कटोच के अनुसार प्रारंभ में अल्मोड़ा उत्तर कुुुरू महाजनपद का अंग था। मौर्य काल तक अल्मोड़ा में किसी विशेष सम्राट का शासन नहीं था। लेकिन उत्तर काल के बाद कुषाणो के राजा कनिष्क ने नियंत्रण स्थापित किया था। हर्षवर्धन काल के पतन के बाद सभी जनपदों की छोटी-छोटी शक्तियां सर उठाने लगी थी। और सातवीं सदी से 11 वीं सदी तक कार्तिकेयपुर वंश और कत्यूरी वंश ने शासन किया। 1025 ईस्वी में चंद वंश के शासक सोमचंद ने कुमाऊं में राज्य स्थापित किया। जिसकी प्रारंभिक राजधानी चंपावत में थी। अकबर के समकालीन बालों कल्याण चंद ने पूर्ण रूप से नई राजधानी अल्मोड़ा में  1565 में स्थापित की। जहां से अल्मोड़ा की एक अलग पहचान सामने आई। बालों कल्याण चंद ने अल्मोड़ा में लाल मंडी का किला बनवाया था । ब्रिटिश काल केेेेे दौरान लाल मंडी  को 'फोर्ट मायरा' के नाम से जाना गया। वर्तमान में यहां सैनिक छावनी स्थापित है। रुद्र चंद्र के शासनकाल में  "मल्ला महल" की स्थापना की। एक और इतिहासकार डॉ श्याम लाल के अनुसार रुद्र चंद ने नए सिरे से सामाजिक व्यवस्था भी स्थापित की। जिसमें ब्राह्मणों को पुरोहित, वैध, राज, कोहली,  पहरियाा, टम्टा, साहू और ओली आदि विभिन्न पद प्रदान किए । जिनको हम वर्तमान समय में कास्ट के नाम से जानते हैं।
               अल्मोड़ा में चंद राज्य का अवनति का काल 1720   ईसवी में जगत चंद की मृत्यु के बाद उसके पुत्र देवीसिंह चंद के बैठने से शुरू हुआ। जिसे "कुमाऊ का मोहम्मद तुगलक" कहा जाता है। चंद वंश का अंतिम राजा "महेंद्र चंद्र" था उसके बाद 1790 में अल्मोड़ा पर गौरखाओ ने कब्जा कर लिया। और 24 साल शासन करने के बाद 1815 में अंग्रेजों का शासन स्थापित हो गया। जिसके बाद 1816 में  सुगौली की संधि अंग्रेजों द्वारा की गई और कुमाऊं के जिले का प्रशासनिक मुख्यालय के रूप में दर्जा मिला।

अल्मोड़ा की विशेषताएं

'कोसी' और 'सुयाल' नदी के बीच अल्मोड़ा पर्वत चोटी पर बसा हुआ है जिसके सामने वाले भाग को तेलीफाट (गर्म) और पीछे वाले भाग को सेलीफाट (ठण्डा) कहा जाता है। सुयाल नदी अल्मोड़ा लाखु उड्यार के पास बहती है। यह कोसी की सहायक नदी है। खैराना नामक स्थान पर कोसी नदी से शिप्रा नदी मिलती है। अल्मोड़ा के सोमेश्वर घाटी को कुमाऊं में धान का कटोरा कहा जाता है सोमेश्वर कोसी नदी के तट पर स्थित है। गगास व बिनो नदी अल्मोड़ा में रामगंगा नदी से मिलती है।

              अल्मोड़ा की खूबसूरती से प्रभावित होकर अल्मोड़ा के कलेक्टर पुरी ने अपनी बेटी का नाम 'अल्मोड़ा' रखा। 2011 की अल्मोड़ा जिले की कुल आबादी 6,22,506 है। और लिंगानुपात 1139 है। जोकि उत्तराखंड के सभी जिलों में सर्वाधिक है। वहीं इसकी ऊंचाई 1651 मीटर है । अल्मोड़ा का घनत्व 198 वर्ग किलोमीटर है । 1891 में अल्मोड़ा को नैनीताल जिले से अलग कर दिया गया। अल्मोड़ा जनपद की सीमाएं 6 जनपदों से मिलती है। अल्मोड़ा जनपद को राज्य की 'ताम्रनगरी' कहा जाता है। जबकि अल्मोड़ा में स्थित मरचूला को 'पीतल नगरी' कहा जाता है। यह राज्य का एकमात्र जनपद एकमात्र है जहां चांदी मिलती है। इसके अतिरिक्त झिरोली में तांबा व मैग्नेसाइट में उत्पादन होता है।
 
                 गौरा नदी अल्मोड़ा से होकर बहती है। सिमलीखेत नामक गांव अल्मोड़ा और चमोली जिले को दो भागों विभाजित करता है। इस गांव केेेे लोगों की खास बात  यह है कि यहां के लोग कुुुमाऊंंनी और गढ़वाली दोनों भाषाएं बोलतेे हैं। अल्मोड़ा में ब्रिटिश शासन के दौरान यहां भारतीय और फ्रांसीसीयों को नृत्य का प्रशिक्षण दिया जाता था। यहां उदय शंकर नृत्य एवं नाटक अकादमी की स्थापना 2003 में की गई थी। वर्तमान समय में लोक कला संस्थान का मुख्यालय अल्मोड़ा में स्थित है। अल्मोड़ा के डीएसबी केंपस का शिक्षा में विशेष योगदान है। यह कॉलेज पहले आगरा यूनिवर्सिटी के अंतर्गत था। सन 1873 में कुमाऊं यूनिवर्सिटी के द्वारा चालित है। अल्मोड़ा का कुल घनत्व 198 वर्ग किलोमीटर है। जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के पर्यटक स्थल और मंदिर शामिल किए गए हैं, जो अल्मोड़ा की मुख्य आकर्षण केंद्र हैं। इनका वर्णन विस्तार पूर्वक किया गया।             

प्रमुख  स्थल

कटारमल सूर्य मंदिर

कत्यूरी शासकों द्वारा "उत्तराखंड शैली" में निर्मित कटारमल सूर्य मंदिर रानीखेत अल्मोड़ा में स्थित हैै। यह स्थल जाट गंगाा के किनारे स्थित है। यह मंदिर सूर्य देवता की आराधना से जुड़ा हुआ हैै। इस मंदिर को मानसखंड में बाडादित्य का सूर्य मंदिर कहां गया है। सूर्य देवता के उपासक सौर संप्रदाय से संबंध रखते हैं । अल्मोड़ा केेेे कटारमल मंदिर से उत्तराखंड में  शकों के निवास की जानकारी मिलती है। यह अल्मोड़ा शहर से रानीखेत में 6 किलोमीटर ऊचें टीले में स्थित है।

कसार देवी मंदिर

प्राकृतिक सौंदर्य की देवी कसार देवी का मंदिर अल्मोड़ा के पर्यटक स्थलों में विशेष स्थान रखता है। जो अल्मोड़ा से केवल 8 किलोमीटर दूरी पर स्थित है । जहां प्रतिवर्ष देश-विदेश से हजारों सैलानी  शांतिपूर्ण वातावरण और प्रकृति के विभिन्न रंगों के दर्शन करने आते हैं। यह स्थान सदैव ठंडा रहता है जिससे लोगों को अधिक भाता है।

चितई गोलू देवता का मंदिर

इस मंदिर का निर्माण चंद शासकों के शासनकाल में लगभग 12 वीं सदी में कराया गया था । मंदिर में एक घोड़े पर सवार धनुष बाण लिए गोलू देवता की मूर्ति है। जो न्याय के लिए प्रसिद्ध है। प्राचीन समय में कुछ इस तरह से न्याय के अनेक उदाहरण देखे जा सकते हैं । यहां जो भी लोग अन्याय से पीड़ित होते हैं वे अपनी समस्या स्टांप पेपर पर लिख कर मंदिर परिसर में दे देते हैं । मान्यता है कि चितई गोलू देवता उचित  न्याय करते हैं। यह मंदिर अल्मोड़ा शहर से 8 किलोमीटर दूर तक रोड पर स्थित है।

जागेश्वर मंदिर

अल्मोड़ा का धाम है "जागेश्वर मंदिर" जिस प्रकार पुण्य प्राप्ति के लिए चार धाम की यात्रा करते हैं । ठीक उसी प्रकार जागेश्वर मंदिर में लोगों की आस्था बनी हुई है। यह 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है । कत्यूरी और चंद राजाओं ने यहां पाषाण शैली के बड़े-बड़े देवों के लिए गृह का निर्माण कराया था। और मंदिर में आकर्षक स्वरूप प्रदान करने के लिए पत्थर पर पशु- पक्षियों का,  देवी-देवताओं की सुंदर मूर्तियां उकेरी । महामृत्युंजय मंदिर जागेश्वर धाम का सबसे प्राचीन मंदिर है ।इसका जीर्णोद्धार राजा विक्रमादित्य ने करवाया था। पुराणों में जागेश्वर को हाटकेश्वर तथा भू-राजस्व अभिलेखों में 'पट्टी-परूण' नाम मिलता है। इस मंदिर में चंद राजा की 'त्रिमल चंद व दीपचंद' की अष्टधातु की मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर में भगवान शिव के नृत्य अवस्था अर्थात नटराज की मूर्ति मिली है। यहां सावन के महीने में एक माह का 'श्रावणी मेला' लगता है। स्थानीय लोगों की भारी भीड़ उमड़ती है। तथा पर्यटन के लिए आए सैलानी विभिन्न प्रकार की सांस्कृतिक विरासत के नमूने देखकर प्रसन्न हो जाते हैं और विभिन्न प्रकार की पोशाकों का लुप्त  उठाते हैं । मेले में तिब्बत से आए अधिकतर व्यापारी कपड़े और शॉल आदि गर्म कपड़ों की दुकाने लगाते हैं ।अल्मोड़ा में स्थित टम्टा कॉलोनी  के तांबे के बर्तन और तांबे से बनी भगवान की मूर्तियां आकर्षित लगती हैं । यह स्थान अल्मोड़ा से 33 किलोमीटर दूर देवदार के जंगल में बीचो-बीच स्थित है।

दूनागिरी मंदिर का इतिहास

दूनागिरी मंदिर का निर्माण कत्यूरी शासक सुधारदेव द्वारा कराया गया था। दूनागिरी मंदिर जाना "द्रोणागिरी पर्वत" पर स्थित है। पौराणिक कथाओं के अनुसार द्रोणागिरी पर्वत त्रेता युग से संबंध रखता हैै। हनुमान जी इसी पर्वत की खोज में संजीवनी बूटी लेने आए थे और पर्वत ले जाते समय एक टुकड़ा नीचे गिर गया। जिसे दूनागिरी मंदिर का निर्माण हुआ। इस मंदिर के दर्शन पाने के लिए 500 सीडियों की ऊंचाई चढनी होती है, जो इसकी विशेषता है और यह रोमांचकारी भी  है। इसे द्रोणागिरी वैष्णवी शक्ति पीठ  की भी मान्यता मिली है । जिस कारण नवरात्रि के समय प्रति वर्ष भक्तों की लंबी कतार लगी होती हैै। जो मां वैष्णवी की आशीर्वाद लेने आते हैं । यहां महिलाएं अखंड दीप जलाकर पुत्र प्राप्ति के लिए पूजा करती हैं । यह स्थान अल्मोड़ा  के द्वाराहाट क्षेत्र से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है ।

अल्मोड़ा : पर्यटक स्थल के रूप

अल्मोड़ा शहर जिसे देश के सौंदर्य और संस्कृति का गुलदस्ता कहना गलत ना होगा। जो हिमालय पर्वत के दर्शन कराने वाला हिल स्टेशन में से एक है। यदि आप अल्मोड़ा घूमने की योजना बनाते हैं। तो आसानी से आ सकते हैं हल्द्वानी काठगोदाम तक ट्रेन द्वारा तथा उसके बाद केवल 110 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । अल्मोड़ा आने के लिए यदि हवाई जहाज सेवा लेना चाहते हैं तो पंतनगर में स्थित हवाई अड्डे तक विमान पहुंच सकता है। जो कि 127 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। आपकी सुविधा के लिए अल्मोड़ा नगर पालिका द्वारा पर्यटन विभाग गाइड उपलब्ध कराता है ।  यहां पर्याप्त मात्रा में होटलों की सुविधा है। जैसे - अलका होटल,  अशोक होटल , त्रिशूल होटल और नीलकंठ  जैसे बड़े होटल उपलब्ध हैं। इसके अलावा लाल बाजार और चौक बाजार में सदैव भीड़ भरे रहते हैं, जो अत्यधिक प्रसिद्ध है । इस शहर में आए तो अल्मोड़ा की मशहूर बाल मिठाई का भी स्वाद जरूर चखें। अल्मोड़ा को बाल मिठाई का शहर भी कहा जाता है।

अल्मोड़ा जिले से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य

  • गोविंद बल्लभ पंत हिमालय पर्यावरण शोध संस्थान अल्मोड़ा में स्थित है
  • विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान केंद्र अल्मोड़ा में स्थित है।
  • मोहन जोशी पार्क अल्मोड़ा में स्थित है।
  • हिप्पी हिल आंदोलन एक सांस्कृतिक आंदोलन था जिसका संबंध अल्मोड़ा से है।
  • बिनसर वन्य जीव विहार की स्थापना अल्मोड़ा में 1988 ईस्वी में हुई।
  • पांडुखोली गुफा द्वाराहाट में स्थित है इस गुफा को त्रयंम्बकम गुफा भी कहा जाता है।
  • कुमाऊं क्षेत्र का प्रथम इंटर कॉलेज रैमजे इंटर कॉलेज है।
  • उत्तराखंड में प्रथम राजनीतिक गिरफ्तारी अल्मोड़ा के 'मोहन सिंह मेहता' के रूप में मानी जाती है।
  • कुमाऊनी भाषा का पहला समाचार 'अल्मोड़ा अखबार' है जिसका प्रकाशन 1871 ईसवी में हुआ था।


 स्रोत  :  उत्तराखंड का समग्र राजनीतिक इतिहास
           ( डॉ अजय सिंह रावत) 

Releted post :-

चार धाम यात्रा ( उत्तराखंड)

पूर्णागिरी मंदिर (चंपावत)


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

If you have any doubts.
Please let me now.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

कत्यूरी राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

 कत्यूरी राजवंश का इतिहास भाग -1 अमोघभूति कुणिद वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। कुणिद वंश उत्तराखंड में लगभग तीसरी- चौथी शताब्दी की पहली राजनीतिक शक्ति थी । जबकि कत्यूर राजवंश उत्तराखंड में शासन करने वाला पहला ऐतिहासिक शक्तिशाली राजवंश था। इसे कार्तिकेयपुर वंश के नाम से भी जाना जाता है। 'कत्यूरी' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग एटकिंसन ने किया था।  कत्यूरी राजवंश के संस्थापक बसंत देव थे । जिन्हें बासुदेव के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी। पांडुकेश्वर ताम्रलेख में पाए गए कत्यूरी राजा ललितशूर के अनुसार कत्यूरी शासकों की प्राचीनतम राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी । बाद में नरसिंह देव ने जोशीमठ से बैजनाथ (बागेश्वर ) में राजधानी स्थानांतरित कर दी । जहां से कत्यूरी राजवंश को विशिष्ट पहचान मिली । कत्यूरी राजवंश का उदय कुणिंदों के पतन के पश्चात देवभूमि उत्तराखंड की भूमि पर कुछ नए राजवंशों का उदय हुआ। जैसे गोविषाण, कालसी लाखामंडल आदि जबकि कुछ स्थानों पर कुणिंद भी शासन करते रहे। कुणिंदो के बाद शक, कुषाण और यौधेय  वंश के शासकों ने कुछ क्षेत्रों पर शासन व्यवस्था स्थ

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

गोरखा शासन : उत्तराखंड का इतिहास

    उत्तराखंड का इतिहास           गोरखा शासन (भाग -1) पृष्ठभूमि मल्ल महाजनपद का इतिहास (आधुनिक नेपाल) 600 ईसा पूर्व जब 16 महाजनपदों का उदय हुआ। उन्हीं में से एक महाजनपद था - मल्ल (आधुनिक नेपाल का क्षेत्र)। प्राचीन समय में नेपाल भारत का ही हिस्सा था। मल्ल महाजनपद का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ के " अगुंत्तर निकाय " में किया गया है। और जैन ग्रंथ के भगवती सूत्र में इसका नाम " मौलि या मालि " नाम से जनपद का उल्लेख है। मल्ल महाजनपद की प्रथम राजधानी कुशीनगर थी । कुशीनगर में गौतम बुद्ध के निर्वाण (मृत्यु) प्राप्त करने के बाद उनकी अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लो को मिला था । जिसके संस्मारणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। मल्ल की वित्तीय राजधानी पावा थी । पावा में ही महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था ।                 322 ईसा पूर्व समस्त उत्तर भारत में मौर्य साम्राज्य ने अपना शासन स्थापित कर लिया था। मल्ल महाजनपद भी मौर्यों के अधीन आ गया था। गुप्त वंश के बाद उत्तर भारत की केंद्र शक्ति कमजोर हो गई । जिसके बाद  लगभग 5वीं सदीं में वैशाली से आए 'लिच्