सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एसडीजी रिपोर्ट 2023-24 (उत्तराखंड को मिला पहला स्थान)

सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) रिपोर्ट 2023-24 रिपोर्ट जारी करने की तिथि - 12 जुलाई 2024 रिपोर्ट जारी कर्त्ता - नीति आयोग  वैश्विक जारी कर्त्ता - संयुक्त राष्ट्र  भारत में उत्तराखंड को सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) रिपोर्ट 2023-24 में पहला स्थान प्राप्त हुआ है।  12 जुलाई 2024 को नीति आयोग द्वारा सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) रिपोर्ट 2023-24 जारी की गई है। यह रिपोर्ट भारत के 35 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रदर्शन का मूल्यांकन करती है। उत्तराखंड और केरल राज्य ने 79 अंकों के साथ शीर्ष स्थान हासिल किया, जबकि दूसरे स्थान पर तमिलनाडु (78 अंक) और तीसरे स्थान पर गोवा (77 अंक) रहा। प्रथम स्थान - उत्तराखंड व केरल दूसरा स्थान - तमिलनाडु  तीसरा स्थान - गोवा  उत्तराखंड ने शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता, ऊर्जा, और बुनियादी ढांचे जैसे कई लक्ष्यों में उल्लेखनीय प्रगति की है। सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) क्या है? एसडीजी का आशय सतत विकास लक्ष्य (Sustainable Development Goals) से है। यह 17 वैश्विक लक्ष्य हैं जिन्हें 2030 तक प्राप्त करने का लक्ष्य रखा गया है। इन लक्ष्यों को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 2015 में अप

भाषा विकास का सिद्धांत (मैक्समूलर और डार्विन)

भाषा विकास का सिद्धांत 

भाषा का अर्थ एवं परिभाषाएँ.

भाषा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के 'भाष' धातु से हुयी है जिसका अर्थ है "व्यक्या वाचि" धातु के अर्थ की दृष्टि से यदि भाषा को परिभाषित किया जाय तो कहा जा सकता है-

"विचारों, भावों तथा इच्छाओं को अभिव्यक्त करने की क्षमता रखने वाले वर्णात्मक प्रतीकों की समष्टि को भाषा कहते हैं"

भाषा संचार का वह माध्यम है जिसके द्वारा व्यक्ति अपनी भावनाओं को किसी दूसरे व्यक्ति तक तथा दूसरे व्यक्ति की भावनाओं विचारों को समझ सके।

भाषा सामान्यतः संकुचित तथा व्यापक दो अर्थों में प्रयुक्त होता है। संकुचित अर्थ में भाषा 'शब्द‌मयी' और व्यापक अर्थ में अभिव्यक्ति का माध्यम है। विभिन्न शिक्षा शास्त्रियों ने भाषा की निम्नलिखित परिभाषाएँ दी हैं,

सुमिनानंदन पंत के अनुसार 
"भाषा संसार का नाद‌मय चित्र है, ध्वनिमय स्वरूप है, यह विश्व की हृदयतंत्री की झंकार है, जिनके स्वर में अभिव्यक्ति पाती है।"

सीताराम चतुर्वेदी के अनुसार -
"भाषा के अर्भिभाव से संपूर्ण मानव संसार गूंगों की विराट बस्ती बनने से बच गया"

रामचंद्र वर्मा के अनुसार,
"मुख से उच्चारित होने वाले शब्दों और वाक्यों आदि का समूह जिसके द्वारा मन की बातें बतायी जाती हैं"

हमबोल्ट के अनुसार,
"मनुष्य केवल भाषा के कारण ही मनुष्य है। 

भाषा जटिल सामाजिक और सांस्कृतिक प्रणाली के भीतर विद्यमान होती है। भाषा जीवन के सभी पहलुओं में व्याप्त होती है।

भाषा का उद्‌भव

18वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में भाषा के उद्‌भव संबंधी सिद्धांतों में यह प्रतिपादित किया गया कि भाषा देवीय उत्पत्ति है उनके अनुसार मनुष्य की रचना की गयी थी और उसके रचना के समय ही एक दैवीय उपहार के रूप में उसे वाणी प्रदान की गई। 
बाइबिल की "गार्डन ऑफ ईडन" की कहानी में ईश्वर ने आदम और वाणी की तरफ एक साथ रचना की और आदम ने ईश्वर की बात का उत्तर दिया। उनके बीच जिस भाषा का प्रयोग हुआ वह हिब्रू थी,"

लेकिन आधुनिक शिक्षाविदों का मानना है कि भाषा मनुष्य के प्रयासों से उत्पन्न हुयी है जिसके लिए तर्क दिया गया. "भाषा सहजवृ‌त्तिक आवेग का परिणाम भी ठीक उसी तरह हुआ है जैसे भ्रूण जन्म लेने के लिए जोर लगाता है"

डार्विन का भाषा विकास सिद्धान्त :

चार्ल्स डार्विन ने भाषा के विकास पर कोई विशिष्ट सिद्धांत नहीं दिया। उन्होंने अपनी पुस्तक "द डिसेन्ट ऑफ मैन" (1871) में भाषा की उत्पत्ति पर कुछ विचार व्यक्त किए।

डार्विन का मानना था कि भाषा प्राकृतिक चयन की प्रक्रिया द्वारा विकसित हुई थी, उसी तरह जैसे जीवों की अन्य विशेषताएं विकसित हुई थीं। उन्होंने तर्क दिया कि :
  • प्रारंभिक मनुष्यों में संवाद करने के लिए सरल आवाजें और इशारे का उपयोग होता था।
  • समय के साथ, इन संचार प्रणालियों में अधिक जटिलता विकसित हुई।
  • जो समूह अधिक प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम थे, वे अधिक सफल रहे और अपनी संतान को अधिक प्रभावी ढंग से अपनी भाषा सिखाने में सक्षम थे।
  • इस प्रक्रिया के माध्यम से, भाषा धीरे-धीरे अधिक जटिल और सूक्ष्म होती गई।
डार्विन ने यह भी सुझाव दिया कि भाषा मानवीय भावनाओं और भावनाओं से निकटता से जुड़ी थी। उनका मानना था कि मनुष्यों ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए भाषा का उपयोग करना शुरू किया, और समय के साथ, भाषा अधिक जटिल विचारों और अवधारणाओं को व्यक्त करने में सक्षम हो गई।

डार्विन के विचारों को आलोचना और समर्थन दोनों मिला है। कुछ भाषाविदों का मानना है कि डार्विन का प्राकृतिक चयन द्वारा भाषा के विकास का स्पष्टीकरण अत्यधिक सरलीकृत है।

मैक्समूलर का भाषा विकास सिद्धांत

मैक्समूलर, 19वीं शताब्दी के एक प्रसिद्ध भाषाविद्, ने भाषा विकास के लिए "ध्वनि-प्रतीकवाद" नामक सिद्धांत प्रस्तावित किया था। जिसे "डिंग-डांग सिद्धांत" भी कहा जाता है। इस सिद्धांत के अनुसार, सभी भाषाओं की उत्पत्ति ध्वनियों की नकल से हुई है।

मैक्समूलर का मानना था कि मनुष्यों ने प्राकृतिक घटनाओं और जानवरों की आवाज़ों की नकल करके भाषा विकसित की।उन्होंने तर्क दिया कि "पानी" शब्द की उत्पत्ति बहती हुई नदी की आवाज़ की नकल से हुई है, और "कुत्ता" शब्द कुत्ते के भौंकने की आवाज़ की नकल से। इसके अलावा अन्य भाषाओं के लिए बेहतरीन उदाहरण दिए जैसे "मुर्गे की बांग जिसे अंग्रेजी में कॉक-अ-इडल-डू है, फ्रांसीसी भाषा में काक्युरीको रूसी भाषा में कुकूईकू, जर्मन में किकेरीकी आदि। 

मैक्समूलर के सिद्धांत के मुख्य बिंदु :
  • सभी भाषाओं की उत्पत्ति ध्वनि-प्रतीकवाद से हुई है।
  • मनुष्यों ने प्राकृतिक घटनाओं और जानवरों की आवाज़ों की नकल करके भाषा विकसित की।
  • भाषाएँ समय के साथ धीरे-धीरे विकसित हुईं।
मैक्समूलर के सिद्धांत का समर्थन करने के लिए, उन्होंने कई भाषाओं से शब्दों के समान उदाहरण प्रस्तुत किए। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि भाषाएँ समय के साथ धीरे-धीरे विकसित हुईं, क्योंकि ध्वनियों का उच्चारण अधिक जटिल और अर्थ अधिक सूक्ष्म होते गए।

मैक्समूलर के सिद्धांत की आलोचना :

हालांकि, मैक्समूलर के सिद्धांत की व्यापक रूप से आलोचना भी हुई है। आलोचकों का तर्क है कि यह सिद्धांत भाषा की जटिलता को समझने में विफल रहता है, और यह सभी भाषाओं पर लागू नहीं होता है।

निष्कर्ष 

आज, भाषा विकास के बारे में हमारी समझ बहुत अधिक जटिल है। हम जानते हैं कि भाषाएँ केवल ध्वनि-प्रतीकवाद से विकसित नहीं होती हैं, बल्कि सामाजिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक कारकों से भी प्रभावित होती हैं। लेकिन, मैक्समूलर और डार्विन के भाषा विकास सिद्धांत इतिहास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इसने भाषा की उत्पत्ति और विकास के बारे में सोचने के लिए एक नया ढांचा प्रदान किया, और भाषा विज्ञान के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण बहसों को जन्म दिया।

आधुनिक विचारधारा 

वाणी शारीरिक अवयवों का कार्य साधन मात्र नहीं है भाषा - विकास के लिए सहकामी मनोवैज्ञानिक विकास भी अनिवार्य है प्रत्येक व्यक्ति की मनोवैज्ञानिक सोच होती है ठीक उसी तरह से जिस तरह से आदम का विकास हुआ ।

मनोवैज्ञानिकों का मत :

जिन कारकों के कारण होमोसेपियंस जातियों का विकास हुआ, उन्हीं कारणों से भाषा का भी विकास हुआ, सीधे खड़े अंग विन्यास के कारण लोगों का दृष्टि क्षेत्र व्यापक हुआ, साथ ही दृष्टि और बेहतर हुयी। Cortex (प्रमस्तकीय कनफल) जो निम्न प्राणियों में नहीं होता। मानव में आश्जचर्यजनक रूप में विकसित हुआ, जिसके कारण मनुष्य में धरि-धीरे तर्क शक्ति का विकास हुआ और वे बोलने लगे।

Related posts :-



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

ब्रिटिश कुमाऊं कमिश्नर : उत्तराखंड

ब्रिटिश कुमाऊं कमिश्नर उत्तराखंड 1815 में गोरखों को पराजित करने के पश्चात उत्तराखंड में ईस्ट इंडिया कंपनी के माध्यम से ब्रिटिश शासन प्रारंभ हुआ। उत्तराखंड में अंग्रेजों की विजय के बाद कुमाऊं पर ब्रिटिश सरकार का शासन स्थापित हो गया और गढ़वाल मंडल को दो भागों में विभाजित किया गया। ब्रिटिश गढ़वाल और टिहरी गढ़वाल। अंग्रेजों ने अलकनंदा नदी का पश्चिमी भू-भाग पर परमार वंश के 55वें शासक सुदर्शन शाह को दे दिया। जहां सुदर्शन शाह ने टिहरी को नई राजधानी बनाकर टिहरी वंश की स्थापना की । वहीं दूसरी तरफ अलकनंदा नदी के पूर्वी भू-भाग पर अंग्रेजों का अधिकार हो गया। जिसे अंग्रेजों ने ब्रिटिश गढ़वाल नाम दिया। उत्तराखंड में ब्रिटिश शासन - 1815 ब्रिटिश सरकार कुमाऊं के भू-राजनीतिक महत्व को देखते हुए 1815 में कुमाऊं पर गैर-विनियमित क्षेत्र के रूप में शासन स्थापित किया अर्थात इस क्षेत्र में बंगाल प्रेसिडेंसी के अधिनियम पूर्ण रुप से लागू नहीं किए गए। कुछ को आंशिक रूप से प्रभावी किया गया तथा लेकिन अधिकांश नियम स्थानीय अधिकारियों को अपनी सुविधानुसार प्रभावी करने की अनुमति दी गई। गैर-विनियमित प्रांतों के जिला प्रमु

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

Uttrakhand current affairs in Hindi (May 2023)

Uttrakhand current affairs (MAY 2023) देवभूमि उत्तराखंड द्वारा आपको प्रतिमाह के महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स उपलब्ध कराए जाते हैं। जो आगामी परीक्षाओं में शत् प्रतिशत आने की संभावना रखते हैं। विशेषतौर पर किसी भी प्रकार की जॉब करने वाले परीक्षार्थियों के लिए सभी करेंट अफेयर्स महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं। उत्तराखंड करेंट अफेयर्स 2023 की पीडीएफ फाइल प्राप्त करने के लिए संपर्क करें।  उत्तराखंड करेंट अफेयर्स 2023 ( मई ) (1) हाल ही में तुंगनाथ मंदिर को राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया गया है। तुंगनाथ मंदिर उत्तराखंड के किस जनपद में स्थित है। (a) चमोली  (b) उत्तरकाशी  (c) रुद्रप्रयाग  (d) पिथौरागढ़  व्याख्या :- तुंगनाथ मंदिर उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। तुंगनाथ मंदिर समुद्र तल से 3640 मीटर (12800 फीट) की ऊंचाई पर स्थित एशिया का सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित शिवालय हैं। उत्तराखंड के पंच केदारों में से तृतीय केदार तुंगनाथ मंदिर का निर्माण कत्यूरी शासकों ने लगभग 8वीं सदी में करवाया था। हाल ही में इस मंदिर को राष्ट्रीय महत्त्व स्मारक घोषित करने के लिए केंद्र सरकार ने 27 मार्च 2023