सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हिन्दी वर्णमाला (Hindi Notes part - 02)

हिन्दी वर्णमाला (देवनागरी लिपि) हिंदी शब्द फारसी ईरानी भाषा का शब्द है। भाषा - भाष् (संस्कृत) की धातु से उत्पन्न होकर बनी है, जिसका का अर्थ है. 'प्रकट करना' । हिंदी सहित सभी भाषाओं की जननी संस्कृत को माना जाता है. भाषा का विकास  1. वैदिक संस्कृत (1500 ई.पू. से 1000 ई. पू.) 2. लौकिक संस्कृत (1000 ई.पू. से 500 ई. पू.) 3. पाली (500 ई.पू. से 1 ई.पू. - बौद्ध ग्रंथ ) 4. प्राकृत (1 ई.पू. से 500 ई. - जैन ग्रंथ) 5. अपभ्रंश (शोरसैनी) (500 ई से 1000 ई.) 6. हिंदी (1000 ई. से वर्तमान समय में) *1100 ई. को हिंदी भाषा का मानक समय माना जाता है वर्णमाला वर्ण क्या है?  उच्चारित ध्वनियों को जब लिखकर बताना होता है तब उनके लिए कुछ लिखित चिन्ह बनाएं जाते हैं ध्वनियों को व्यक्त करने वाले ये लिपि - चिन्ह ही वर्ण कहलाते हैं। हिन्दी में इन वर्णों को 'अक्षर' कहा जाता है। वर्णमाला वर्णों की व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी की वर्णमाला में पहले 'स्वर वर्णों तथा बाद में व्यंजन वर्णों' की व्यवस्था है। हिंदी लिपि के चिन्ह अ आ इ ई उ ऊ ऋ  ए ऐ ओ औ अं अः क ख ग घ ङ  च छ ज झ ञ ट ठ ड ढ ण त थ

हिन्दी की उत्पत्ति एवं विकास (hindi Notes)

हिन्दी के सम्पूर्ण नोट्स


हिन्दी की उत्पत्ति एवं विकास 

विशेष नोट :- यदि आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं तो नोट्स केवल पढ़ें नही, साथ में शार्ट नोट्स भी बनाए। 

भारतीय संविधान और हिन्दी 

हिन्दी भारत की राष्ट्रीय भाषा है। संविधान सभा में हिंदी को राजभाषा बनाने का प्रस्ताव गोपाल स्वामी आयंगर ने प्रस्तुत किया। 14 सितंबर, 1949 को भारतीय संविधान द्वारा हिन्दी भाषा को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया। जिसका उल्लेख संविधान के अनुच्छेद 343 में किया गया है।
  • अनुच्छेद 344 (1) के अनुसार राष्ट्रपति ने 7 जून 1955 को राजभाषा आयोग का गठन आदेश जारी किया। इसकी प्रथम बैठक 15 जुलाई 1955 को हुई।
  • अनुच्छेद 345 के अनुसार राज्य में प्रयुक्त होने वाली भाषाओं में किसी एक को या अनेक या हिंदी को शामिल किया जा सकता है 
  • अनुच्छेद 346 के अनुसार राज्य से राज्य, राज्य से संघ में संचार की भाषा समान रहेगी ।
  • राजभाषा आयोग के प्रथम अध्यक्ष बाल गंगाधर खरे थे।
  • अनुच्छेद 347 के अनुसार किसी राज्य की जनसंख्या के किसी भाग द्वारा बोले जाने वाली भाषा का वर्णन है।
  • अनुच्छेद 348 में उच्चतम न्यायालय उच्च न्यायालय में और अधिनियम विधेयक आदि के लिए प्रयोग की जाने वाली भाषा का उल्लेख है ।
  • अनुच्छेद 349 में भाषा संबंधी विधेयक के अधिनियमित करने के लिए विशेष प्रक्रिया का उल्लेख है ।
  • अनुच्छेद 350 में शिकायतों को दूर करने के लिए अभ्यावेदन में प्रयोग की जाने वाली भाषा का उल्लेख है 
  • अनुच्छेद 351 में भाषा के विकास संबंधी का उल्लेख है

राजभाषा या राष्ट्रीय भाषा

राजभाषा या राष्ट्रीय भाषा उसे कहते हैं  जो राष्ट्र में जन-जन के विचारों  के आदान-प्रदान का माध्यम हो। 'हिन्दी' शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम अमीर खुसरो ने किया था। यह विश्व की चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है।

भाषा का जन्म कैसे हुआ?

सृष्टि के प्रारंभ में जब भाषा का विकास नहीं हुआ था, तब मनुष्य संकेतों व चिन्हों के माध्यम से अपने विचार व्यक्त करता था। इतना ही नहीं वह पशु-पक्षियों के भांति विभिन्न ध्वनियों द्वारा भी अपनी भावनाओं का आदान-प्रदान करता था। लेकिन मानव के विकास के साथ-साथ उसे अपनी बात दूसरों के सामने प्रकट करने के लिए तथा दूसरों की स्पष्टतया समझने के लिए एक उन्नत साधन की आवश्यकता अनुभव हुई जिसके फलस्वरुप भाषा का जन्म हुआ। हमारा बोलना, सुनना, लिखना तथा पढ़ना सब भाषा द्वार संभव हो सका ।

भाषा के सामान्यतः तीन रूप होते हैं -
  1. मौखिक भाषा
  2. लिखित भाषा
  3. सांकेतिक भाषा 
1. मौखिक भाषा - जब मन के भावों को मुख से बोलकर प्रकट किया जाता है, तो भाषा का यह रूप मौखिक भाषा कहलाता है। टेलीफोन पर बातें करना करना, वाद-विवाद करना आदि मौखिक भाषा के उदाहरण हैं।

2. लिखित भाषा - जब मन के भावों को लिखकर प्रकट किया जाता है, तो भाषा का यह रूप लिखित भाषा कहलाता है। पत्र लिखना, ई-मेल भेजना आदि लिखित भाषा के उदाहरण हैं।

3. सांकेतिक भाषा - जब मनुष्य संकेतों व चिन्हों के माध्यम से अपने विचार व्यक्त करता था। या बिना बोले और लिखे इशारों में अपनी विचार व्यक्त करता है उसे सांकेतिक भाषा कहते हैं।

भाषा का विकास

हिंदी भाषा की उत्पत्ति संस्कृत से हुई है। संस्कृत को वेदों और पुराणों की भाषा कहा जाता है इसे 'ब्राह्मी लिपि' में लिखा जाता है। क्योंकि संस्कृत एक जटिल भाषा थी। इसलिए बौद्ध धर्म और जैन धर्म के धर्म गुरुओं ने मानव सभ्यता के विकास हेतु संस्कृत को सरल रूप को प्रस्तुत करते हुए अपने उपदेश पालि और प्राकृत भाषा में दिए। भगवान गौतम बुद्ध के सारे उपदेश पाली में है तथा भगवान महावीर के सारे उपदेश प्राकृत भाषा में है। गुप्त वंश के पतन के बाद उत्तर भारत में प्राकृत भाषा का स्थान अपभ्रंश ने ले लिया। अपभ्रंश भाषा प्राकृत भाषा की तुलना में सरल थी। और इस तरह भाषा के क्षेत्र में मानव विकास करता गया। सुविधा के अनुसार भाषाओं में परिवर्तन होता गया। 'हिंदी' शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम अमीर खुसरो ने किया था। जो गुलाम वंश और खिलजी वंश के समकालीन थे। भाषा परिवार के आधार पर हिंदी 'भारोपीय परिवार' की भाषा है। भारत में चार भाषा परिवार है - भारोपीय, द्रविड़, ऑस्ट्रिक व चीनी तिब्बती । 

हिन्दी का विकास क्रम
संस्कृत — पालि — प्राकृत — अपभ्रंश — हिन्दी 

अपभ्रंश का समय 500 ई से 1000ई तक माना जाता है अपभ्रंश और पुरानी हिंदी के मध्य का समय संक्रांति काल कहा जाता है। अपभ्रंश की उत्तर कालीन अवस्था अवहटठ कहलाती है

अपभ्रंश के भेद आधुनिक भारतीय आर्य भाषा
  1. शोरसैनी अपभ्रंश - पश्चिमी हिंदी गुजराती राजस्थानी पहाड़ी
  2. पैशाची अपभ्रंश -  लहदा और पंजाबी 
  3. बाचड़ अपभ्रंश - सिंधी
  4. महाराष्ट्री अपभ्रंश - मराठी 
  5. मागधी अपभ्रंश - बिहारी, बांग्ला , उड़िया , असमिया 
  6. अर्धमागधी अपभ्रंश - पूर्वी, हिंदी, अवधी, बघेली, छत्तीसगढ़ी

राष्ट्रीय भाषा - हिन्दी (14 सितंबर 1949)

सरकारी काम-काज में प्रयोग होने वाली भाषा राजभाषा कहलाती है। 14 सितंबर, 1949 को भारतीय संविधान द्वारा हिंदी भाषा को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया। अत: हमारे देश में प्रतिवर्ष 14 सितंबर को 'हिंदी दिवस' मनाया जाता है।

किसी देश अथवा राष्ट्र के अधिकांश लोग जिस भाषा को बोलते तथा समझते हैं, उसे उस देश या राष्ट्र की राष्ट्रभाषा कहते हैं। भारत की राष्ट्रभाषा हिंदी है। यह भारत के एक कोने से दूसरे कोने तक बोली व समझी जाती है तथा इसके माध्यम से लोग अपने समस्त कार्य करते हैं।

बोली 

बोली साधारण बोलचाल की वह भाषा है जो किसी क्षेत्र या स्थान विशेष में बोली जाती है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि सामान्य रूप से किसी क्षेत्र विशेष में प्रयोग की जाने वाली भाषा बोली कहलाती है। जैसे - गढ़वाल में गढ़वाली, कुमाऊं में कुमाऊनी, हरियाणा में हरियाणवी, हिमाचल में हिमाचली आदि। बोली का प्रयोग केवल बोलचाल के रूप में किया जाता है। इसे प्रायः लिखा नहीं जा सकता।

विभाषा या उपभाषा 

जब बोली में साहित्यिक रचना होने लगती है तो वह उपभाषा या विभाषा बन जाती है; जैसे - ब्रज और अवधी दोनों ब्रज तथा अवध की क्षेत्रीय भाषाएं हैं परंतु सूरदास जी ने ब्रज भाषा में 'सूरसागर' की तथा तुलसीदास जी ने अवधी भाषा में 'रामचरितमानस' की रचना की है जिसके कारण यह दोनों बोलियां उपभाषाएं बन गई।

उपरोक्त विवरण से स्पष्ट होता है की बोली का विकास उपभाषा में और उपभाषा का विकास भाषा में होता है।
बोली — विभाषा/उपभाषा — भाषा 

हिंदी क्षेत्र की समस्त बोलियां को पांच वर्गों में बांटा गया है इन वर्गों को ही उपभाषा कहा जाता है।

             उपभाषा                  बोलियां                          
  1. पश्चिमी हिन्दी   -  खड़ी बोली,(कौरवी) ब्रजभाषा, बुन्देली, बांगरू या हरियाणी कन्नौजी
  2. पूर्वी हिन्दी       - अवधी बघेली छत्तीसगढ़ी 
  3. राजस्थानी      -   पश्चिमी राजस्थानी (मारवाड़ी), पूर्वी राजस्थानी (जयपुरी या ढूंढारी ), उत्तरी राजस्थानी (मेवाती ), दक्षिणी राजस्थानी (मालवी)
  4. बिहारी - मगही, भोजपुरी, मैथिली
  5. पहाड़ी - पश्चिमी पहाड़ी (जौनसारी), मध्यवर्ती पहाड़ी (कुमाऊनी गढ़वाली)

वर्ण या अक्षर की उत्पत्ति 

लिपि किसे कहते हैं?

आरंभ में भाषा केवल बोली जाती थी। इसका कोई लिखित रूप नहीं था। धीरे-धीरे इसके लिखित रूप की आवश्यकता अनुभव होने लगी जिसके परिणामस्वरूप प्रत्येक बोली जाने वाली ध्वनि के लिए निश्चित चिन्ह बनाए गए। यह चिन्ह ही लिखित भाषा के वर्ण या अक्षर बने। इस प्रकार प्रत्येक भाषा अलग-अलग प्रकार में लिखी जाने लगी। सामान्यतः किसी भी भाषा को लिखने की विधि को लिपि कहते हैं। विभिन्न भाषाएं अलग-अलग लिपियों में लिखी जाती हैं।
  1. चीनी चित्र - लिपि
  2. उर्दू - फ़ारसी
  3. बांग्ला - बंगाली
  4. पंजाबी - गुरुमुखी
  5. अंग्रेजी, जर्मन, फ्रांसीसी - रोमन
  6. गुजराती - गुजराती
  7. हिंदी, संस्कृत, मराठी, कोंकणी, गढ़वाली, कुमाऊनी, तमांग, बोडो, राजस्थानी बघेली, डोगरी, मगही , भोजपुरी, मैथिली, कश्मीरी, सिंधी, शिपाली, हरियाणवी नेपाली - देवनागरी

देवनागरी और उसका विकास

भाषा की ध्वनियों को जी संकेत और चिन्ह द्वारा प्रदर्शित किया जाता है उसको लिपि कहते हैं। भारत की प्रमुख लिपियां सिंधु, ब्राह्मी, खरोष्ठी और देवनागरी है। भारतीय भाषाओं की लिपि और देवनागरी की जड़ या जननी ब्राह्मी लिपि को माना जाता है 

देवनागरी लिपि का मुख्य स्रोत कुटिला लिपि है। ब्राह्मण - गुप्त - कुटिल - प्राचीन नागरी - देवनागरी भारत में देवनागरी लिपि को गनथम लिपि कहा जाता था तथा दक्षिण भारत में नंद नागरी कहा जाता था

देवनागरी लिपि के स्वरूप में प्रभाव 
  • जय भट्ट के शिलालेख में नागरी लिपि का सर्वप्रथम उल्लेख मिलता है । महाराष्ट्र में देवनागरी को बाल बोध कहा जाता है। देवनागरी पर कई भाषाओं जैसे - फारसी, बंगला, मराठी, गुजराती, अंग्रेजी का प्रभाव पड़ा है।
  • व्यंजनों के नीचे लगने वाला नुक्ता चिन्ह फारसी की देन है।
  • व्यंजनों को घसीट कर मिलाकर लिखना भी फारसी की देन है। 
  • शिरो रेखा रहित प्रभाव गुजराती से पड़ा। 

देवनागरी लिपि के गुण और दोष

गुण - स्वर व्यंजन वैज्ञानिक व क्रमबद्ध रूप से रखे गए हैं. यह एक वर्णनात्मक लिपि है जैसा बोला जाता है वैसा लिखा जाता है । देवनागरी लिपि लचीली प्रकृति की लिपि है यह अपने आप में समाहित करने की कोशिश करती है ।
  • प्रत्येक वर्ण का उच्चारण लेखन व प्रयोग एक जैसा होता है । स्वरों की मात्राएं भी इसमें होती हैं ।
  • इसमें संयुक्त अक्षरों को मिलाकर लिखने की विशेषता है साथ ही शब्दों को उच्चारण के अनुरूप लिखते हैं ।
  • शब्द इसमें स्थान काम घेरते हैं, एक ध्वनि के लिए एक ही वर्ण का प्रयोग होता है। यह एक आक्षरिक लिपि भी है
  • यह लिपि स्वर और व्यंजन के सहयोग से मिलकर बनी है .
दोष - चारों ओर से मात्राओं का प्रयोग होता है सर्वाधिक विवादास्पद मात्रा ई है। बोली बाद में वह लिखी पहले जाती है 
कुछ ध्वनियों दो या दो से अधिक रूप में लिखी जाती है जैसे र, श, ष, स

देवनागरी सुधार समिति - 1947

कुछ विद्वानों का मानना है कि देवनागरी लिपि में शिरो रेखा से समस्या हो सकती है । यूं तो इस लिपि का सबसे पहले प्रयोग गुजरात के नागर ब्राह्मण द्वारा किया गया था। लेकिन गुजराती भाषा में देवनागरी लिपि शिरो रहित प्रयोग की गई थी।

1947 में स्थापित देवनागरी सुधार समिति के अध्यक्ष आचार्य नरेंद्र देव थे । नागरी सुधार समिति संयोजक के अध्यक्ष काका कालेलकर थे। इस समिति का मुख्य उद्देश्य देवनागरी लिपि में सुधार करना था।
  • देवनागरी के स्थान पर रोमन का सुझाव सुमित कुमार चटर्जी द्वारा दिया गया ।
  • देवनागरी में 'अ' के साथ 'बारहखड़ी' का सुझाव काका कालेलकर ने दिया। 
  • मात्राओं को व्यंजन के बाद दाहिने तरफ अलग रखने का सुझाव गौरव प्रसाद ने दिया 
  • पंचमाक्षर के बदले अनुस्वार का प्रयोग श्याम सुंदर दास द्वारा किया गया । 
  • महाप्राण वर्ण के लिए अल्पप्राण के नीचे चिन्ह लगने का सुझाव श्रीनिवास द्वारा दिया गया।
उपरोक्त दिए गए आर्टिकल पर बहुत जल्द 40+ प्रश्नोत्तरी तैयार की जाएगी। जो आपके सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए लाभकारी होगी। उम्मीद है आपको देवभूमि द्वारा तैयार हिन्दी की उत्पत्ति एवं विकास के नोट्स पसंद आए होंगे। भाग -02 में वर्णमाला का अध्ययन करेंगे।

Related posts :-

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानी

उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं हेतु उत्तराखंड के प्रमुख व्यक्तित्व एवं स्वतंत्रता सेनानियों का वर्णन 2 भागों में विभाजित करके किया गया है । क्योंकि उत्तराखंड की सभी परीक्षाओं में 3 से 5 मार्क्स का उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान अवश्य ही पूछा जाता है। अतः लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। दोनों भागों का अध्ययन करने के पश्चात् शार्ट नोट्स पीडीएफ एवं प्रश्नोत्तरी पीडीएफ भी जरूर करें। भाग -01 उत्तराखंड के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी [1] कालू महरा (1831-1906 ई.) कुमाऊं का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) "उत्तराखंड का प्रथम स्वतंत्रा सेनानी" कालू महरा को कहा जाता है। इनका जन्म सन् 1831 में चंपावत के बिसुंग गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रतिभान सिंह था। कालू महरा ने अवध के नबाब वाजिद अली शाह के कहने पर 1857 की क्रांति के समय "क्रांतिवीर नामक गुप्त संगठन" बनाया था। इस संगठन ने लोहाघाट में अंग्रेजी सैनिक बैरकों पर आग लगा दी. जिससे कुमाऊं में अव्यवस्था व अशांति का माहौल बन गया।  प्रथम स्वतंत्रता संग्राम -1857 के समय कुमाऊं का कमिश्नर हेनरी रैम्

चंद राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास

चंद राजवंश का इतिहास पृष्ठभूमि उत्तराखंड में कुणिंद और परमार वंश के बाद सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला राजवंश है।  चंद वंश की स्थापना सोमचंद ने 1025 ईसवी के आसपास की थी। वैसे तो तिथियां अभी तक विवादित हैं। लेकिन कत्यूरी वंश के समय आदि गुरु शंकराचार्य  का उत्तराखंड में आगमन हुआ और उसके बाद कन्नौज में महमूद गजनवी के आक्रमण से ज्ञात होता है कि तो लगभग 1025 ईसवी में सोमचंद ने चंपावत में चंद वंश की स्थापना की है। विभिन्न इतिहासकारों ने विभिन्न मत दिए हैं। सवाल यह है कि किसे सच माना जाए ? उत्तराखंड के इतिहास में अजय रावत जी के द्वारा उत्तराखंड की सभी पुस्तकों का विश्लेषण किया गया है। उनके द्वारा दिए गए निष्कर्ष के आधार पर यह कहा जा सकता है । उपयुक्त दिए गए सभी नोट्स प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से सर्वोत्तम उचित है। चंद राजवंश का इतिहास चंद्रवंशी सोमचंद ने उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में लगभग 900 वर्षों तक शासन किया है । जिसमें 60 से अधिक राजाओं का वर्णन है । अब यदि आप सभी राजाओं का अध्ययन करते हैं तो मुमकिन नहीं है कि सभी को याद कर सकें । और अधिकांश राजा ऐसे हैं । जिनका केवल नाम पता है । उनक

परमार वंश - उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

उत्तराखंड का इतिहास History of Uttarakhand भाग -1 परमार वंश का इतिहास उत्तराखंड में सर्वाधिक विवादित और मतभेद पूर्ण रहा है। जो परमार वंश के इतिहास को कठिन बनाता है परंतु विभिन्न इतिहासकारों की पुस्तकों का गहन विश्लेषण करके तथा पुस्तक उत्तराखंड का राजनैतिक इतिहास (अजय रावत) को मुख्य आधार मानकर परमार वंश के संपूर्ण नोट्स प्रस्तुत लेख में तैयार किए गए हैं। उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में 688 ईसवी से 1947 ईसवी तक शासकों ने शासन किया है (बैकेट के अनुसार)।  गढ़वाल में परमार वंश का शासन सबसे अधिक रहा।   जिसमें लगभग 12 शासकों का अध्ययन विस्तारपूर्वक दो भागों में विभाजित करके करेंगे और अंत में लेख से संबंधित प्रश्नों का भी अध्ययन करेंगे। परमार वंश (गढ़वाल मंडल) (भाग -1) छठी सदी में हर्षवर्धन की मृत्यु के पश्चात संपूर्ण उत्तर भारत में भारी उथल-पुथल हुई । देश में कहीं भी कोई बड़ी महाशक्ति नहीं बची थी । जो सभी प्रांतों पर नियंत्रण स्थापित कर सके। बड़े-बड़े जनपदों के साथ छोटे-छोटे प्रांत भी स्वतंत्रता की घोषणा करने लगे। कन्नौज से सुदूर उत्तर में स्थित उत्तराखंड की पहाड़ियों में भी कुछ ऐसा ही हुआ। उत्

उत्तराखंड में भूमि बंदोबस्त का इतिहास

  भूमि बंदोबस्त व्यवस्था         उत्तराखंड का इतिहास भूमि बंदोबस्त आवश्यकता क्यों ? जब देश में उद्योगों का विकास नहीं हुआ था तो समस्त अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर थी। उस समय राजा को सर्वाधिक कर की प्राप्ति कृषि से होती थी। अतः भू राजस्व आय प्राप्त करने के लिए भूमि बंदोबस्त व्यवस्था लागू की जाती थी । दरअसल जब भी कोई राजवंश का अंत होता है तब एक नया राजवंश नयी बंदोबस्ती लाता है।  हालांकि ब्रिटिश शासन से पहले सभी शासकों ने मनुस्मृति में उल्लेखित भूमि बंदोबस्त व्यवस्था का प्रयोग किया था । ब्रिटिश काल के प्रारंभिक समय में पहला भूमि बंदोबस्त 1815 में लाया गया। तब से लेकर अब तक कुल 12 भूमि बंदोबस्त उत्तराखंड में हो चुके हैं। हालांकि गोरखाओ द्वारा सन 1812 में भी भूमि बंदोबस्त का कार्य किया गया था। लेकिन गोरखाओं द्वारा लागू बन्दोबस्त को अंग्रेजों ने स्वीकार नहीं किया। ब्रिटिश काल में भूमि को कुमाऊं में थात कहा जाता था। और कृषक को थातवान कहा जाता था। जहां पूरे भारत में स्थायी बंदोबस्त, रैयतवाड़ी बंदोबस्त और महालवाड़ी बंदोबस्त व्यवस्था लागू थी। वही ब्रिटिश अधिकारियों ने कुमाऊं के भू-राजनैतिक महत्

कत्यूरी राजवंश : उत्तराखंड का इतिहास (भाग -1)

 कत्यूरी राजवंश का इतिहास भाग -1 अमोघभूति कुणिद वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। कुणिद वंश उत्तराखंड में लगभग तीसरी- चौथी शताब्दी की पहली राजनीतिक शक्ति थी । जबकि कत्यूर राजवंश उत्तराखंड में शासन करने वाला पहला ऐतिहासिक शक्तिशाली राजवंश था। इसे कार्तिकेयपुर वंश के नाम से भी जाना जाता है। 'कत्यूरी' शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग एटकिंसन ने किया था।  कत्यूरी राजवंश के संस्थापक बसंत देव थे । जिन्हें बासुदेव के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी। पांडुकेश्वर ताम्रलेख में पाए गए कत्यूरी राजा ललितशूर के अनुसार कत्यूरी शासकों की प्राचीनतम राजधानी जोशीमठ (चमोली) में थी । बाद में नरसिंह देव ने जोशीमठ से बैजनाथ (बागेश्वर ) में राजधानी स्थानांतरित कर दी । जहां से कत्यूरी राजवंश को विशिष्ट पहचान मिली । कत्यूरी राजवंश का उदय कुणिंदों के पतन के पश्चात देवभूमि उत्तराखंड की भूमि पर कुछ नए राजवंशों का उदय हुआ। जैसे गोविषाण, कालसी लाखामंडल आदि जबकि कुछ स्थानों पर कुणिंद भी शासन करते रहे। कुणिंदो के बाद शक, कुषाण और यौधेय  वंश के शासकों ने कुछ क्षेत्रों पर शासन व्यवस्था स्थ

उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न (उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14)

उत्तराखंड प्रश्नोत्तरी -14 उत्तराखंड की प्रमुख जनजातियां वर्ष 1965 में केंद्र सरकार ने जनजातियों की पहचान के लिए लोकर समिति का गठन किया। लोकर समिति की सिफारिश पर 1967 में उत्तराखंड की 5 जनजातियों थारू, जौनसारी, भोटिया, बोक्सा, और राजी को एसटी (ST) का दर्जा मिला । राज्य की मात्र 2 जनजातियों को आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त है । सर्वप्रथम राज्य की राजी जनजाति को आदिम जनजाति का दर्जा मिला। बोक्सा जनजाति को 1981 में आदिम जनजाति का दर्जा प्राप्त हुआ था । राज्य में सर्वाधिक आबादी थारू जनजाति तथा सबसे कम आबादी राज्यों की रहती है। 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल एसटी आबादी 2,91,903 है। जुलाई 2001 से राज्य सेवाओं में अनुसूचित जन जातियों को 4% आरक्षण प्राप्त है। उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित प्रश्न विशेष सूचना :- लेख में दिए गए अधिकांश प्रश्न समूह-ग की पुरानी परीक्षाओं में पूछे गए हैं। और कुछ प्रश्न वर्तमान परीक्षाओं को देखते हुए उत्तराखंड की जनजातियों से संबंधित 25+ प्रश्न तैयार किए गए हैं। जो आगामी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे। बता दें की उत्तराखंड के 40 प्रश्नों में से 2

गोरखा शासन : उत्तराखंड का इतिहास

    उत्तराखंड का इतिहास           गोरखा शासन (भाग -1) पृष्ठभूमि मल्ल महाजनपद का इतिहास (आधुनिक नेपाल) 600 ईसा पूर्व जब 16 महाजनपदों का उदय हुआ। उन्हीं में से एक महाजनपद था - मल्ल (आधुनिक नेपाल का क्षेत्र)। प्राचीन समय में नेपाल भारत का ही हिस्सा था। मल्ल महाजनपद का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ के " अगुंत्तर निकाय " में किया गया है। और जैन ग्रंथ के भगवती सूत्र में इसका नाम " मौलि या मालि " नाम से जनपद का उल्लेख है। मल्ल महाजनपद की प्रथम राजधानी कुशीनगर थी । कुशीनगर में गौतम बुद्ध के निर्वाण (मृत्यु) प्राप्त करने के बाद उनकी अस्थि-अवशेषों का एक भाग मल्लो को मिला था । जिसके संस्मारणार्थ उन्होंने कुशीनगर में एक स्तूप या चैत्य का निर्माण किया था। मल्ल की वित्तीय राजधानी पावा थी । पावा में ही महावीर स्वामी को निर्वाण प्राप्त हुआ था ।                 322 ईसा पूर्व समस्त उत्तर भारत में मौर्य साम्राज्य ने अपना शासन स्थापित कर लिया था। मल्ल महाजनपद भी मौर्यों के अधीन आ गया था। गुप्त वंश के बाद उत्तर भारत की केंद्र शक्ति कमजोर हो गई । जिसके बाद  लगभग 5वीं सदीं में वैशाली से आए 'लिच्